Top

रुहेलखंड में गन्ने की जैविक खेती बन रही किसानों के आकर्षण का केंद्र 

रुहेलखंड में गन्ने की जैविक खेती बन रही किसानों के आकर्षण का केंद्र कृषि भूमि को सुरक्षित करने के लिए रुहेलखंड के किसान गन्ने की जैविक खेती कर रहे हैं।

अमरकांत, स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्ट

बरेली। कृषि भूमि को सुरक्षित करने के लिए रुहेलखंड के किसान गन्ने की जैविक खेती को अधिक पसंद कर रहे हैं। इसका असर ये हुआ है की क्षेत्र में गन्ने का उत्पादन बढ़ने लगा है।

रुहेलखंड में तेज़ी से बढ़ रही गन्ने की जैविक खेती के बारें में उप गन्ना आयुक्त दिनेश्वर मिश्रा ने बताया,’’ वर्ष 2016-2017 में रुहेलखंड के करीब 19,636 गन्ना किसानों ने जैविक खेती शुरू की है। इसके लिए गन्ना विभाग ने किसानों को समितियों से बायोफर्टिलाइजर मुहैया कराया है। साथ ही गन्ना रोपण पर 600 रुपए प्रति हेक्टर का अनुदान भी दिया गया है।’’

ये भी पढ़ें- गन्ने की बढ़िया फसल के लिए खेत-खेत जाएंगे अफसर

रुहेलखंड के किसानों के मुताबिक यहां पर जैविक खेती को बढ़ावा मिलने से अब बड़े क्षेत्र में कृषिभूमि सुरक्षित रहेगी। इससे क्षेत्र में गन्ना और चीनी का उत्पादन भी बढ़ेगा।

ऐसे मिलेगा बायोफर्टिलाइजर

किसानों को गन्ना समितियों से बायो फर्टिलाइजर मिलता है। इफको, कृभको और गन्ना शोध शाहजहांपुर से मुहैया कराया गया है। अगर किसान निजी दुकानों से बायोफर्टिलाइजर लेते हैं, तो उन्हें दुकान का बिल जमा करना पड़ेगा। इसके बाद सीधे किसान के खाते में अनुदान राशि भेज दी जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.