पीलीभीत से नहीं मिलतीं लम्बी दूरी की ट्रेनें  

पीलीभीत से नहीं मिलतीं लम्बी दूरी की ट्रेनें  इस लाइन पर अमान्य परिवर्तन के कारण अभी ये लाइन नहीं शुरू हो पाई है।

अनिल चौधरी, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

पीलीभीत। जनपद में बड़ी रेल लाइन होते हुए भी यहां के लोगों को लंबी दूरी की यात्रा करने के लिए बरेली स्टेशन पर जाकर ट्रेनों को पकड़ना पड़ता है। ऐसे में यात्रियों को पूरे परिवार के साथ पहले बरेली जंक्शन पहुंचना पड़ता है, जहां से उन्हें आगे की ट्रेन मिलती है।

इसमें यात्रियों का समय और किराया दोनों अधिक बर्बाद होते हैं। इतनी ही जद्दोजहद उनको वापसी में भी करनी पड़ती है। केंद्रीय रेलमंत्री सुरेश प्रभु और स्थानीय सांसद केंद्रीय महिला एवं बाल कल्याण मंत्री मेनका गांधी ने पिछले वर्ष 14 दिसम्बर को पीलीभीत से बरेली सिटी तक बड़ी रेल लाइन की ट्रेनों के संचालन को हरी झंडी दिखाई थी।

ये भी पढ़ें- बहुत कुछ कहता है योग का यह ‘लोगो’

पीलीभीत से बरेली यात्रा करने वाले सुधीर कुमार (45 वर्ष) बताते हैं, “हमें धार्मिक स्थलों पर दर्शन को जाना होता है तो पीलीभीत जंक्शन से सिर्फ बरेली सिटी स्टेशन तक ही जा पाते हैं। आगे की यात्रा के लिए दूसरी ट्रेनों को खोजना और इंतज़ार करना पड़ता है।

काफी मशक्कत उठानी पड़ती है। कई सारी ट्रेनें बदलनी पड़ती हैं इस वजह से काफी दौड़-भाग करनी पड़ती है।” इसी तरह अजय जायसवाल (35 वर्ष) ने बताया, “इस समय तो पीलीभीत जंक्शन से टनकपुर माता पूर्णागिरी तक सीधे ट्रेनों का संचालन भी नहीं किया जा रहा। टनकपुर लाइन को मीटरगेज से ब्रॉडगेज में बदलने का काम जारी है।”

राजेन्द्र कुमार, पीआरओ, बरेली मंडल ने कहा कि इस लाइन पर अमान्य परिवर्तन के कारण अभी ये लाइन नहीं शुरू हो पाई है, पीलीभीत से लेकर टनकपुर तक लाइन का काम अभी चल रहा है। जब बड़ी लाइन का काम पूरा जाएगा तब शुरू कर दिया जाएगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहांक्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top