न तो डॉक्टर के आने का समय तय है और न ही पीएचसी का खुलने का

न तो डॉक्टर के आने का समय तय है और न ही पीएचसी का खुलने काडॉक्टर के न आने से परेशान ग्रामीण 

होरीलाल/स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

रायबरेली। जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर पश्चिम हरचंदपुर ब्लाक के पश्चिम गांव में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की व्यवस्था बदहाल है। इसके न तो खुलने का समय तय है और न ही डॉक्टर के आने का। मरीज सुबह से ही चिकित्सालय परिसर में लाइन लगाकर खड़े हो जाते हैं और डॉक्टर के आने का इंतजार करते हैं।

बहादुर खेड़ा निवासी श्याम बहादुर (उम्र 45 वर्ष) ने बताया, “बिटिया को तेज बुखार चढ़ा हुआ है। मैं सुबह 9 बजे से अस्पताल के बाहर बैठा हूं, लेकिन डेढ़ घंटे बाद भी अस्पताल का ताला भी नहीं खुला है। अब सोच रहा हूं कि किसी प्राइवेट डॉक्टर को दिखाकर दवा लूं।”

ये भी पढ़ें- योगी कैबिनेट का फैसला : जर्जर सीएचसी व पीएचसी को गिराकर बनेंगी नई बिल्डिंग

जोहवाँ शर्की निवासी शिव बहादुर सिंह (उम्र 45 वर्ष) बताते हैं, “मेरा गाँव यहां से आठ किलोमीटर दूर है और मैं वहां से साइकिल चलाकर दवा लेने आया हूं। पर दो घंटे हो गए हैं, अभी तक डॉक्टर साहब का कुछ पता नहीं है। पिछली बार भी एक घंटा इंतजार करना पड़ा था।” चिकित्सालय का ताला खोलने आए 20 वर्षीय सोनू ने बताया, “मैं यहां के चौकीदार का बेटा हूं। मेरे पापा कुछ काम से बाहर गए हैं। इसलिए मैं ताला खोलने आया हूं और डॉक्टर साहब लखनऊ से आते हैं। इसलिए कभी कभार उन्हें आने में देर हो जाती है।”

इस बारे में जब हरचंदपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉक्टर भावेश कुमार से बात की तो उन्होंने कहा, “अभी तक इस तरह की कोई भी शिकायत हमारे पास नहीं आई है, लेकिन मैं कल ही पश्चिम गाँव के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण करके जिम्मेदारों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करूंगा।”

ये भी पढ़ें- पीएचसी व सीएचसी के चिकित्सकों की बनेगी संयुक्त टीम

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top