कच्ची शराब के ठिकानों पर गोरखपुर पुलिस ने की छापेमारी

कच्ची शराब के ठिकानों पर गोरखपुर  पुलिस ने की छापेमारीप्रदर्शन करती महिलाएं।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

गोरखपुर। जिले में कच्ची शराब के कारोबार का खूब बोलबाला है। हालांकि आजमगढ़ की घटना के बाद शुक्रवार और शनिवार को आबकारी विभाग और पुलिस महकमा सजग नजर आया। पुलिस की टीम ने इस दौरान कई इलाकों में छापेमारी की, जहां कच्ची शराब बनाए जाने की आशंका थी।

जिला आबकारी अधिकारी बीपी सिंह ने बताया कि शुक्रवार को शहर से सटे कुछ इलाकों में कच्ची शराब को लेकर छापेमारी की गई। उन्होंने बताया कि हाबर्ट बांध और जिले के अन्य इलाकों में छापेमारी की गई।यह हर कोई जानता है कि ग्रामीण से लेकर शहर के अंतिम छोर तक के इलाकों में कच्ची शराब का खूब बोलबाला रहता है। स्थानीय पुलिस की मिली-भगत से यह खेल खूब चलता है। इसी के चलते शराब माफिया के हौसले बुलंद रहते हैं। उन्हें आबकारी टीम की बिल्कुल भी परवाह नहीं रहती है।

ये भी पढ़ें- वायरल वीडियो : गांव में भैंस चराने वाले इस बच्चे के स्टंट आपको हैरत में डाल देंगे

बता दें कि नवंबर 2015 में प्रधानी चुनाव के दौरान पिपराइच थाना क्षेत्र के जंगल छत्रधारी टोला बिचउपुर में प्रधान पद के प्रत्याशी द्वारा बांटी गई जहरीली शराब पीने से तीन ग्रामीणों की मौत हो गई। 13 ग्रामीण मेडिकल कॉलेज भर्ती थे। इस घटना से गोरखपुर से लखनऊ तक हड़कंप मच गया। तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आबकारी अधिकारी सदानंद चौरसिया को सस्पेंड कर दिया था।

वहीं सरकार ने मृतकों के परिवारीजनों को दो-दो लाख रुपए की आर्थिक सहायता और बीमारों के नि:शुल्क इलाज का ऐलान किया था।इस मामले में तत्कालीन एसएसपी ने एसओ पिपराइच, दरोगा और दो सिपाहियों को भी निलंबित कर दिया था। पिपराइच थाने में प्रधान प्रत्याशी धनंजय साहनी और उसके अज्ञात सहयोगियों पर केस भी दर्ज हुआ था।

ये भी पढ़ें- सेब औषधि नहीं बल्कि औषधियों को दूर रखने का सटीक उपाय

जिला आबकारी अधिकारी बीपी सिंह आबकारी टीम लगातार छापेमारी कर रही है। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। कच्ची शराब बनाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।एसपी ग्रामीण ज्ञानप्रकाश चतुर्वेदी ने बताया कच्ची शराब के कारोबारियों से सख्ती से निपटा जाएगा। पुलिस लगातार काम कर रही है। देहात इलाके में कही से सूचना मिलने पर तुरंत छापेमारी हो रही है। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top