स्टेशन मार्ग जगमग, गाँव के हर कोने में पहुंची रोशनी

Sujeet AgrihariSujeet Agrihari   31 Aug 2017 3:04 PM GMT

स्टेशन मार्ग जगमग, गाँव के हर कोने में पहुंची रोशनीगाँव के हर कोने को अंधेरे से रोशनी में तब्दील कर दिया गया है।

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

शोहरतगढ़ (सिद्धार्थनगर)। रोशनी को लेकर जद्दोजहद कर रहा आदर्श रेलवे स्टेशन, शोहरतगढ़ मार्ग जगमग हो गया है। गाँव के हर कोने को अंधेरे से रोशनी में तब्दील कर दिया गया है। अंधेरे की मार झेल रहे शोहरतगढ़ ब्लाक क्षेत्र के गड़ाकुल ग्राम सभा में यह तब्दीली गाँव कनेक्शन अखबार में छपी खबर के बाद देखने को मिला है। प्रधान ने पहल कर गाँव के हर पोल पर एलईडी लगवाकर पूरे गाँव को रोशनी से सराबोर किया है।

ग्राम सभा में बदलाव की पहली कहानी अंधेरे की मार से छूटकारा देने से शुरू हुई है। गाँव कनेक्शन अखबार ने 27 अगस्त से 2 सितंबर के अंक में आदर्श रेलवे स्टेशन शोहरतगढ़ का मार्ग बदहाल शीर्षक से खबर प्रकाशित किया था। जिसमें ग्राम सभा व स्टेशन मार्ग पर रात के समय अंधेरे से खड़ी होने वाली समस्या को उठाया था। खबर पर संज्ञान लेते हुए ग्राम सभा प्रधान श्यामसुंदर चौधरी ने तत्काल एलईडी की खरीदारी करा कर स्टेशन मार्ग सहित पूरे गाँव को रोशन कर दिया है।

यह भी पढ़ें- रिपोर्ट : नोटबंदी के दौरान 1000 रुपए के 99 फीसदी नोट वापस आए

ग्राम सभा को आदर्श बनाने की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। ग्राम पंचायत निधि से एलईडी लगवायी गई है। आगे भी विकास के लिए सार्थक कदम उठाए जाएंगे।
श्यामसुंदर चैधरी, प्रधान, गड़ाकुल।

पिछले डेढ़ सालों से स्टेशन मार्ग पर खराब होकर मुंह चिढ़ा रहे सभी छह सीएफएल को उतरवाकर आठ एलईडी लगवाया है। एलईडी लगने से रात के समय आने- जाने वाले मुसाफिरों व राहगीरों की दिक्कतें दूर हो गयी हैं। रोशनी न रहने से कुत्तों का शिकार हो रहे मुसाफिर व टहलने वाले लोग एलईडी लगने से राहत की सांस ले रहे हैं।

100 एलईडी से गाँव जगमग

ग्राम सभा को दूधिया रोशनी में तब्दील करने के लिए प्रधान ने 25 वाट के 100 एलईडी की खरीदारी कराकर हर कोने को जगमग किया है। दूर तलक पहुंचने वाली दूधिया रोशनी से मुख्य मार्ग भी रोशन हैं।

यह भी पढ़ें- दिल्ली : मोहल्ला क्लीनिक पर बढ़ी तकरार, एलजी हाउस में विधायकों का डेरा

डेढ़ वर्ष अंधेरे में रहा गाँव

पिछले डेढ़ वर्ष से ग्राम सभा निवासी व राहगीर शाम होते ही अंधेरे की मार झेलते रहे हैं। घरों से निकलने वाली रोशनी ही आने- जाने का माध्यम बनती थी। घरों से निकलकर सड़क पर आने वाले लोग टार्च की रोशनी में चलते थे। इसके चलते दिक्कतें झेलनी पड़ती थी। एलईडी लगने से गांव में राह आसान हो गयी है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top