औरैया के विद्यालयों में पैसा न मिलने से परेशान शिक्षकों ने फल न बांटने का किया एेलान

औरैया के विद्यालयों में पैसा न मिलने से परेशान शिक्षकों ने फल न बांटने का किया एेलानफोटो साभार: इंटरनेट 

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

औरैया। मध्यान्ह भोजन के साथ बच्चों को दिये जा रहे फलों का पैसा शासन से न मिलने पर खफा शिक्षक संगठनों ने अगले माह फल न बांटने का एलान किया है। इसी के साथ प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक में प्रधानाध्यापक के पदों पर सहायक अध्यापकों की पदोन्नति और एमडीएम का संचालन प्रधान द्वारा कराने की शिक्षकों ने मांग की है।

प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में दिबंसर 2016 से फलों का वितरण शुरू किया गया था। फल वितरण होते हुए 10 माह का समय हो गया है। जिसमें एक माह की छुटटी हो जाने पर 9 माह का पैसा सरकार द्वारा अभी तक नहीं दिया गया है। शिक्षक लगातार 9 माह से अपने पैसों से फलों का वितरण कर रहे है। लेकिन अब शिक्षकों ने अपने पैसे से फल न बांटने का फैसला लिया है। शिक्षकों का कहना है कि अगर अक्टूबर माह तक फल वितरण का पैसा नहीं आया तो फलों का वितरण बंद कर दिया जायेगा। प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापकों के पदों पर सहायक अध्यापकों की पदोन्नति न होने के कारण शिक्षक संगठन ने प्रदर्शन करने का मन बना लिया है।

ये भी पढ़ें- सरोजनी नगर के एक पूर्व माध्यमिक विद्यालय में शिक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए दी जाती है साईकिल

इसके अलावा एमडीएम का संचालन प्रधान द्वारा कराये जाने की मांग की गई थी। एमडीएम में आये दिन शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा कमी निकाले जाने से खफा शिक्षकों ने प्रधान द्वारा कराने की मांग की थी। मांग पूरी न होने पर शिक्षक संगठन में आक्रोश है। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने उक्त समस्याओं का निस्तारण न होने पर अगले माह से प्रदर्शन किए जाने का एलान किया है।

“फल वितरण का पैसा दिये जाने के लिए शासन को पत्राचार किया जा चुका है अक्टूबर माह में पैसा आ जायेगा। इसके अलावा प्रधानाध्यापक के पदों पर सहायक अध्यापकों की पदोन्नति के लिए कार्यवाही चल रही है।”
शिव प्रसाद यादव,जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी,औरैया

उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष विपिन कुमार तिवारी का कहना है] ”फल वितरण का पैसा नौ माह से नहीं दिया गया है अभी तक शिक्षक अपने वेतन से फलों का वितरण कर रहे थे। पैसा न मिलने पर फल वितरण बंद कर दिया जायेगा। प्रधानाध्यापक के पदों पर पदोन्नति न होने पर जिले के शिक्षक प्रदार्शन करने को बाध्य होंगे।"

ये भी पढ़ें- प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक स्कूली बच्चों की बनेगी प्रोफाइल, एक ही बार में एक ही जगह पर मिलेगी पूरी जानकारी

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top