तीन दिनों के अन्दर सही होंगे स्कूलों के हैंडपंप

तीन दिनों के अन्दर सही होंगे स्कूलों के हैंडपंपविद्यालय में सूखा पड़ा नल

स्वाती शुक्ला, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। परिषदीय स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को अब पीने के पानी की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। राज्य परियोजना निदेशक ने शासनादेश जारी किया है, जिसके अन्तर्गत खराब हैंडपंप को तीन दिन के अन्दर सही कराया जाएगा। सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को आदेश जारी कर दिए गए हैं।

आदेश में ये भी कहा गया था कि परिषदीय प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में रिबोर योग्य हैंडपंप और दूसरी खराबी की जानकारी ग्राम पंचायत विभाग को देकर हैंडपंपों को सही कराया जाए। खराब हैंडपंपों को सही कराने की जिम्मेदारी ग्राम पंचायत अधिकारियों को दी गई है।

बाराबंकी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी पीएन सिंह ने बताया, ‘हमारे यहां चार स्कूलों के हैंडपंप खराब पड़े थे, जिनको सुधरवाने के लिए काम चल रहा है। बाकी जगहों पर जब स्कूल खुलेंगे तब उनको सुधरवाने का काम किया जाएगा।’

सीतापुर के प्राथमिक विद्यालय की शिक्षिका निशा मिश्रा बताती हैं, ‘विद्यालय में हैंडपंप खराब नहीं हैं, लेकिन पानी गंदा आता है। इसके लिए शिकायत की लेकिन कोई सुधार नहीं हुआ है। पानी पीने के लिए बच्चे गाँव में जाते हैं। अगर नलों को रीबोर करा दिया जाए तो बच्चों को पेयजल की दिक्कत नहीं होगी।’

बख्शी का तालाब प्राथमिक विद्यालय खानपुर के शिक्षक देवेन्द्र मिश्र बताते हैं, “जब कभी नल खराब होता था तो हम लोग ही ठीक करा लेते हैं, क्योंकि नल की शिकायत प्रधान से करते थे तो वो महीनों लगा देते हैं। अब सरकार ने हैंडपंप के सुधार की जिम्मेदारी ग्राम पंचायत को दी है, जिससे की इस समस्या का निदान होगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top