गोरखपुर में बच्‍चों की मौत से आहत वरुण गांधी सुल्तानपुर में बनवाएंगे बाल चिकित्सा केंद्र, दिए पांच करोड़

गोरखपुर में बच्‍चों की मौत से आहत वरुण गांधी सुल्तानपुर में बनवाएंगे बाल चिकित्सा केंद्र, दिए पांच करोड़वरुण गांधी

नई दिल्ली। गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में इन्सेफेलाइटिस से पीड़ित बच्चों की मौत से बीजेपी के सांसद वरुण गांधी दुख जताया है। ऐसे हादसे उनके संसदीय क्षेत्र सुल्तानपुर में न हो इसलिए उन्होंने बाल चिकित्सा केंद्र स्थापित करने के लिए सांसद निधि से पांच करोड़ रुपये देने की घोषणा की है। वरुण गांधी ने कहा 'गोरखपुर हादसे से मैं काफी आहत हूं जिसमें कई बच्चों की मौत हो गई। इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई तो की ही जानी चाहिए, साथ ही आगे ऐसा कोई हादसा न हो इसके लिए निरोधात्मक कदम उठाए जाने चाहिए।'

ये भी पढ़ें:- गोरखपुर की शिशु मृत्यु दर 20 देशों से ज्यादा, एक हजार में से 62 की मौत हर साल, पढ़ें रिपोर्ट

उन्होंने कहा 'आज मैंने सुल्तानपुर के जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी और जिला अधिकारी से बात की और जिले की स्थिति का जायजा लिया।' 'सुल्तानपुर का सांसद होने के नाते मैंने अपनी सांसद निधि से सुल्तानपुर के जिला अस्पताल में अत्याधुनिक बाल चिकित्सा केंद्र का आधारभूत ढांचा विकसित करने के लिए पांच करोड़ देने का निर्णय किया है।'

ये भी पढ़ें:- गोरखपुर : डॉक्टरों का दर्द- ‘काफी दबाव में करना पड़ता है काम, कभी-कभी खाने पड़ते हैं जूते’

वरुण गांधी ने कहा 'इसके अलावा भी मैं चंदे और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) के जरिए अस्पताल के लिए पांच करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि जुटाउंगा।' उन्होंने कहा कि मेरी ओर से सांसद निधि का चेक आज से लागू होगा। इसके अलावा पांच करोड़ रुपए की अतिरिक्त राशि अगले छह महीने में जुटा लिए जाने की संभावना है।

ये भी पढ़ें:- हजारों बच्चों की जान लेने वाल इंसेफ्लाइटिस आख़िरकार बना राष्ट्रीय मुद‌्दा

सासंद ने कहा कि सुल्तानपुर जिले के इस बाल चिकित्सा केंद्र में बच्चों के लिए विशेष तौर पर वायु एवं जल जनित रोगों के इलाज के प्रबंध होंगे। इसके अलावा विभिन्न रोगों की जांच के लिए प्रयोगशाला स्थापित की जाएगी. उन्होंने कहा कि इसमें बच्चों के लिए 100 बिस्तरों वाले कक्ष का निर्माण होगा।

बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने इस संबंध में एक पत्र भी जारी किया. उन्होंने कहा कि इस केंद्र में राष्ट्रीय टीकाकरण के संचालन की पूरी व्यवस्था होगी और एक सस्ता जन औषाधालय भी स्थापित किया जाएगा। यहां तीन एंबुलेंसों का प्रबंध भी किया जाएगा।

ये भी पढ़ें:- गोरखपुर का एक गाँव, जहाँ हर घर में इंसेफ़्लाइटिस ने जान ली है

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top