‘मेरा प्रवेश पत्र नहीं आया, कैसे दूंगी बोर्ड परीक्षा’

‘मेरा प्रवेश पत्र नहीं आया, कैसे दूंगी बोर्ड परीक्षा’मनीषा का नहीं आया रोल नम्बर 

कन्नौज। ‘‘मेरा रोल नंबर नहीं मिला है। दूसरी छात्राओं को मिल गए हैं। प्रवेश पत्र भी नहीं मिला है। इसके बिना बोर्ड परीक्षा कैसे दे सकूंगी।” यह कहना है हाईस्कूल की छात्रा मनीषा शंखवार का।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 160 किमी दूर जिला मुख्यालय कन्नौज के गोमती देवी गर्ल्स इंटर कॉलेज की प्रधानाचार्य दिव्या शर्मा बताती हैं, “हमने लिस्ट देखी थी तो मनीषा का नाम नहीं था। लिस्ट प्रैक्टिकल के समय आई थी। हमने मनीषा से भी कहा था। करीब दो सप्ताह पहले इसकी जानकारी जिला प्रोबेशन अधिकारी अश्विनी को दे दी थी।”

जिला प्रोबेशन अधिकारी अश्विनी त्रिपाठी बताते हैं, “जानकारी हुई है कि मनीषा का नाम हाईस्कूल बोर्ड परीक्षा सूची में नहीं आया है। संरक्षण अधिकारी विजय से कहा है, जहां कागज रिसीव कराए हैं वहां बात करने को कहा है। हम दिखवाते हैं।”

ये भी पढ़ें- गाँव कनेक्शन की खबर का असर : मनीषा को यूपी बोर्ड की परीक्षा में बैठने की विशेष अनुमति मिली

जिला विद्यालय निरीक्षक विमलेश विजयश्री बताती हैं, “अब तो प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। अपर सचिव से बात करेंगी।”

मनीषा बताती हैं, “प्रवेश पत्र के लिए मैडम ने कहा था कि जिसमें फीस जमा की वह रसीद ले आओ। मैम कह रही थीं कि जो बोर्ड परीक्षा की लिस्ट है उसमें तुम्हारा नाम नहीं आया है। उन्होंने कहा कि तुम्हारी फाइल भी नहीं जमा हो सकती। जब फाइल ही नहीं जमा हुई तो हम स्कूल जाकर क्या करें। इसके बाद हम गए नहीं। इलाहाबाद गए थे तो वहां कहा था कि फीस हम जमा कर देंगे जाओ कन्नौज में परीक्षा दोगी।”

मनीषा का विद्यालय

ये है छात्रा का मामला

हाईस्कूल में पढ़ने वाली छात्रा मनीषा का नाम फीस न दे पाने के कारण काट दिया गया था, जिसकी वजह से वह माध्यमिक षिक्षा परिशद इलाहाबाद बोर्ड परीक्षा का फार्म भी नहीं भर पाई थी। इस मामले को जब 'गांव कनेक्शन' ने उठाया तो कुछ अधिकारियों ने तेजी दिखाई। कॉलेज प्रशासन ने बाद में छात्रा के कक्षा में न आने की वजह से नाम काटने की सफाई दी थी।

एसपी हरीश चन्दर ने गोपनीय जांच कराई और मामला सही पाए जाने पर छात्रा की आर्थिक मदद की। बाद में संरक्षण अधिकारी विजय राठौर और आपकी सखी आषा ज्योति केंद्र में 181 की काउंसलर देवांष प्रिया सेठी आदि के साथ मनीशा अपनी मां और चाची के साथ इलाहाबाद बोर्ड कार्यालय पहुंची थी। यहां पर अपर सचिव से मुलाकात हुई थी। उन्होंने कागजी प्रक्रिया पूरी कराकर मनीषा से कहा था, ‘‘कि परीक्षा इसी साल कन्नौज में दोगी। तैयारी करो जाकर।”

ये भी पढ़ें- ज़्यादा उत्पादन से नहीं, गुणवत्ता वाली उपज से मिलेगा फायदा

Tags:    up board exams 
Share it
Top