किसान कल्याण कार्यशाला : किसान मिश्रित कृषि करेंगे, तभी उत्पादन में वृद्धि होगी

किसान कल्याण कार्यशाला : किसान मिश्रित कृषि करेंगे, तभी उत्पादन में वृद्धि होगी

किसानों की आय दोगुनी करने के लिए पूरे देश में कृषि कल्याण कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यशाला का बरेली जिले के इज्जतनगर में स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान में भी आयोजन किया गया। इस अवसर पर 10 प्रगतिशील किसानों को भी सम्मानित किया गया।

देश में हो रही इस कार्यशाला में किसानों को नई-नई तकनीकों और सरकारी योजनाओं की जानकारी दी जा रही है कि कैसे किसान अपनी आमदनी बढ़ा सकते हैं। इस कार्यक्रम मुख्य अतिथि मीरंगज के विधायक डॉ डी.सी. वर्मा ने कहा, "आज किसान कल्याण दिवस हर विकास खण्ड में मनाया जा रहा है और देश के सम्मानित प्रधानमंत्री जी का एक ही लक्ष्य हैं कि किसानों की आय दोगुनी की जाए, जिससे कृषि उत्पादन में वृद्धि हो तथा देश का किसान खुशहाल हो।"

यह भी पढ़ें- किसान कल्याण कार्यशाला: किसानों को बताया जा रहा कैसे बढ़ाएं आमदनी, देखें वीडियो

उन्होंने कहा, "किसानों की आय दुगनी करने लिए आवश्यक हैं उत्पादन लागत में कमी हो, जिसके लिए केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार दोनो कार्य कर रही हैं। उन्होनें मिश्रित खेती पर बल देते हुए कहा, "किसान मिश्रित कृषि करेंगे तो उनके उत्पादन में वृद्धि होगी, साथ ही साथ आय में भी वृद्धि होगी। किसानों को अच्छा मूल्य मिले इसके लिए आलू खरीद नीति बनायी गयी है और फसल का समर्थन मूल्य बढ़ाने पर भी विचार किया जा रहा है।"

डा. वर्मा ने कहा, "आज खेती, बागवानी, तथा पशुपालन के किसानों को मार्केटिंग से भी जड़ेंगे। डेयरी उद्योग को बढ़ावा देने के लिए माइक्रो लेवल पर प्रोजेक्ट लाने का कार्य सरकार कर रही है जिससे डेयरी उद्योग को और बढ़ावा मिलेगा।"

आईवीआरआई संस्थान के निदेशक एवं कुलपति डा. राजकुमार सिंह ने किसान कल्याण दिवस के अवसर पर उपस्थित सभी किसानों को बधाई देते हुए कहा, "आज फसल उत्पादन को बढ़ाने के साथ-साथ बाजार में मूल्य निर्धारण की बहुत आवश्यकता हैं क्योंकि फसल का मूल्य तय हो जाने से किसानों को अपनी फसल का उचित दाम मिल सकेगा।"

यह भी पढ़ें- इंटीग्रेटेड फार्मिंग : खेत के एक एक इंच का इस्तेमाल कर ये किसान साल में कमाता है लाखों रुपए

उन्होंने कहा कि भूमि के लिए कम्पोस्ट खाद बहुत लाभदायक है इसको अपानाना होगा, जिसके लिये संस्थान किसानों का सहयोग करेगा। जल संरक्षण तथा जल को बचाने की अपील करते हुए संस्थान निदेशक डा. सिंह ने कहा, "हमें पानी बचाने के लिए मुहिम चलाने होगी और इस पर ठोस कार्य करना होगा क्योंकि दिन प्रतिदिन पानी की समस्या बढ़ती जा रही है।"

इस कार्यक्रम में संयुक्त निदेशक प्रसार शिक्षा डा. महेश चन्दर ने कहा, "किसान कल्याण दिवस का आयोजन ग्राम स्वराज अभियान के अन्तर्गत आयोजित किया जा रहा है। इसके तहत संस्थान के लगभग 15 वैज्ञानिकों को बरेली के हर विकास खण्ड में भी भेजा गया है। इसका उद्देश्य किसानों की आय को दोगुना करना है।

कार्यक्रम में उपस्थित संस्थान के कृषि विज्ञान केन्द्र प्रभारी डा. ब्रजपाल सिंह ने बताया, "डेयरी, पॉलीहाउस में सब्जी उत्पादन, दलहन, तिलहन एवं सब्जी उत्पादन, मशरूम उत्पादन, मत्स्य पालन व्यवसाय में अच्छा कार्य करने के लिए किसानों को सम्मानित भी किया है। यह कार्यशाला पूरे देश में हो रही है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य वैज्ञानिकों और किसानों को एक साथ जोड़ना है।"

यह भी पढ़ें- खुशखबरी : केंद्र सरकार किसानों का बकाया भुगतान चुकाने के लिए देगी सब्सिडी

Share it
Top