सोनभद्र : खुले में शौच मुक्त को लेकर 140 किमी की मानव श्रृंखला इंडिया बुक में दर्ज की गई

सोनभद्र : खुले में शौच मुक्त को लेकर 140 किमी की मानव श्रृंखला इंडिया बुक में दर्ज की गईसोनभद्र में मानव श्रृंखला।

आज का दिन सोनभद्र जिले के लिए ऐतिहासिक दिन साबित हुआ। जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय की नई पहल आखिरकार रंग लायी और जिले को 3 लाख 1 हजार नागरिकों की मदद से 140 किमी लम्बी मानव श्रृंखला का गौरव हासिल हुआ। इंडिया बुक रिकार्ड के अधिकारियों ने जिलाधिकारी को समीक्षा के बाद प्रमाण-पत्र, स्मृति चिन्ह व मेडल से नवाजा।

सुबह 11 बजे से दोपहर 12.05 बजे तक 3 लाख 1 हजार नागरिकों ने 140 किमी लम्बी मानव श्रृंखला बना करके सोनभद्र जिले का नाम इंडिया बुक रिकार्ड में दर्ज कराया। इस मौके पर इंडिया बुक रिकार्ड के एडजूकेटर विनोद कुमार सिंह व स्मिता सिंह ने मानकों को पूरा होने के आधार पर प्रमाण-पत्र व मेडल तथा इण्डिया बुक रिकार्ड का स्मृति चिन्ह जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय को सौंपा।

ये भी पढ़ें- खुले में शौच मुक्त अभियान के लिए निकली यूपी की 96 हजार महिलाओं की फौज 

प्रमोद कुमार उपाध्याय ने मानव श्रृंखला में सहयोग करने वाले सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों, जनप्रतिनिधियों, स्कूली बच्चों, मीडिया के पदाधिकारियों, स्वयंसेवी संगठनों के साथ ही आम नागरिकों को इण्डिया बुक रिकार्ड में सोनभद्र जिले का नाम दर्ज होने का श्रेय दिया है। इसके पहले जिले स्तर का मानव श्रृंखला का कीर्तिमान पश्चिम बंगाल के नाडिया जिले में 122.3 कि0मी0 दर्ज था। अब देश में जिले स्तर पर आयोजित मानव श्रृंखला का कीर्तिमान सोनभद्र जिले को मिला है, जिससे सोनभद्र जिले का नाम प्रदेश ही नहीं देश स्तर पर रौशन हुआ है।

सोनभद्र जिले में आयोजित 140 किमी लम्बी मानव श्रृंखला में चार चांद लगाने के लिए प्रदेश की राज्य मंत्री भूतत्व एवं खनिकर्म, आबकारी एवं मद्यनिषेध/जिले की प्रभारी मंत्री अर्चना पाण्डेय ने सोनभद्र जिले के नागरिकों के जज्बे को सलाम किया। मंत्री मानव श्रृंखला के मौके पर स्वच्छता, शिक्षा व स्वास्थ्य की शपथ भी दिलायी। शपथ दिलाते हुए उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी ने जिस भारत का सपना देखा था, उसमें सिर्फ राजनैतिक आजादी ही नहीं थी, बल्कि एक स्वच्छ एवं विकसित देश की कल्पना थी। उन्होंने गुलामी की जंजीरों को तोड़कर मां भारती को आजादी कराया। अब हमारा कर्तब्य है कि गंदगी को दूर करके भारत माता की सेवा करें।

ये भी पढ़ें- खुले में शौच मुक्त का लक्ष्य अभी कोसों दूर

मंत्री ने शिक्षा एवं स्वास्थ्य की शपथ दिलाते हुए कहा कि सभी गर्भवती माताओं को जांच करने के लिए सरकारी अस्पतालों में अनिवार्य रूप से ले जायेंगे। प्रसव प्रत्येक दशा में एएनएम/आशा के माध्यम से सरकारी अस्पताल में ही करायेंगें। माताओं एवं शिशुओं का शत-प्रतिशत टीकारण करायेंगें। बच्चें के जन्म के एक घंटे के अन्दर मॉ का दूध पिलाने के लिए प्रेरित करेंगें। छः माह तक मां के दूध के अलावा ऊपर का कोई खाना/दूध नहीं देंगें। दो बच्चों के जन्म के बीच कम से कम तीन साल का अन्तराल रखेंगें। लड़की व लड़के के पढ़ाई में कोई फर्क न मानते हुए अनिवार्य रूप से स्कूल भेजेंगें और उनकी पढ़ाई रूकने नहीं देंगें।

मानव श्रृंखला शपथ के मौके पर अर्चना पाण्डेय के अलावा सांसद छोटेलाल खरवार, पूर्व एमएलसी जय प्रकाश चतुर्वेदी, अध्यक्ष भाजपा अशोक मिश्रा, विधायक दुद्धी हरिराम चेरो, चेयरमैन बिरेन्द्र कुमार जायसवाल, जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय, पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह दुद्धी चेयरमैन राजकुमार अग्रहरी सहित जनप्रतिनिधिगण, अधिकारीगण आदि मौजूद रहें।

ये भी पढ़ें- पूर्वांचल में आज भी खुले में शौच के वक्त महिलाएं नहीं ले जाती पानी 

Tags:    Sonbhadra 
Share it
Top