बाल स्वच्छता रथ सिखाएंगे स्वच्छता का पाठ 

बाल स्वच्छता रथ सिखाएंगे स्वच्छता का पाठ बाल स्वच्छता रथ को रवाना करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 

वाराणसी। स्वच्छता के प्रति लोगों में जागरुकता बढ़ाने और स्वच्छता अभियान को बढ़ावा देने के लिए वाराणसी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को बाल स्वच्छता रथ को रवाना किया है। इस रथ का उद्देश्य स्वच्छता के साथ-साथ निर्माण कार्य को करवाना है।

स्वच्छ भारत मिशन के राज्य सलाहकार संजय सिंह चौहान ने बताया, “यह देखा गया है कि स्कूल अथवा आंगनवाड़ी में या तो शौचालय बने नहीं होते या बने होते हैं तो बहुत अच्छी इस स्थिति में नहीं होते। सुरक्षा एवं मान सम्मान की दृष्टि से महिला एवं पुरुषों के शौचालय अलग-अलग नहीं होते। शौचालयों में गंदगी रहती है और हाथ धोने की उचित व्यवस्था नहीं रहती है। इन्हीं सब कारणों से स्कूल की बच्चियां स्कूल जाने से कतराती हैं।”

ये भी पढ़ें- स्वच्छता का पाठ पढ़ा रहे हैं झोपड़ पट्टी में रहने वाले बच्चे, देखें ‘कचरापुर’ का ये वीडियो

बाल स्वच्छता रथ

इसके अलावा महिला शिक्षिकाएं सही समय से शौच ना जाने के कारण अनेक बीमारियों की शिकार भी कुछ समय बाद होने लगती हैं। कई सारी स्टडीज में यह भी निकल कर आया है कि स्कूल में शौचालय ना होना बच्चियों के स्कूल ना जाने अथवा बीच में स्कूल छोड़ देने का कारण होता है।

ये भी पढ़ें- दुनियाभर में और बढ़ी भारतीय मसालों की धाक, 24 फीसदी बढ़ा निर्यात

बच्चों के साथ

बाल स्वच्छता रथ का उद्देश्य

“स्कूलों तथा आंगनवाड़ियों में शौचालय का निर्माण ग्राम सभा निधि से करवाना। शौचालयों की गुणवत्ता बरकरार रखना। शौचालय में साफ-सफाई बरकरार रखना। महिला तथा पुरुष के लिए अलग-अलग शौचालय की व्यवस्था रखना। शौचालयों के अंदर सभी तरह की सुविधाएं जैसे कि पानी के लिए बाल्टी मग, खूंटियां कपड़े के लिए तथा हैंड वाशिंग फैसिलिटी मेंटेन करना। बच्चों को साबुन से हाथ धोने के लिए प्रेरित करना तथा उनमें स्वच्छता के प्रति जागरूकता जगाना। प्रधान सचिव तथा प्रधानाध्यापक की स्वच्छता के प्रति जवाबदेही तय करना।” संजय सिंह चौहान ने बताया।

ये भी पढ़ें- इस कड़ाके की ठंड में पतला सा कंबल ओढ़े गत्ते पर सोता है वो बच्चा

बाल स्वछता वैन को तहसील स्तर पर तीन रथ स्कूल /आंगनबाड़ी की सफाई व्यवस्था का अनुश्रवण किया जायेगा। प्रत्येक बाल सेना रथ में चार सफाईकर्मी, एक बीआरसी और एक चालक होगा। इसके साथ ही सफाई की सभी किट भी होगी । गंदगी मिलने पर शर्म पत्र और सम्बंधित प्रधान/सचिव /प्रधानध्यापक को देते हुए एक हफ्ते के भीतर पुनः सत्यापन किया जायेगा, जिससे सुनिश्चित किया जा सके की पाई गई कमियां दूर हो गयी है, गन्दगी दूर न होने पर कार्यवाही की जाएगी। निगरानी समिति की महिलाओ , बच्चों को ओडीएफ में उनके सरहनीय कार्य के लिये सम्मान स्वरूप साड़ी , सिटी टार्च , टी शर्ट , ट्रेकसूट , हूटर , कैप , दी गयी ।

ये भी पढ़ें- बाकी फसलों के मुकाबले बागवानी वाले किसानों को मिले अच्छे रेट

बाल स्वच्छता रथ

ये भी देखें-

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाल स्वच्छता रथ रवाना करते हुए बताया, “महिलाओं बच्चों और आमजन की मदद से लोगों को जागरूक करने के लिए आज बाल स्वच्छता रथ चलाया गया है। इसके बाद दूसरे चरण में इस कार्यक्रम को ब्लॉक स्तर पर यहीं लागू किया जायेगा। हर ग्राम पंचायत को केंद्र सरकार और राज्य सरकार पर्याप्त मात्रा में हर संसाधन उपलब्ध कराती है लेकिन फिरभी शहरों की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्र कहीं न कहीं छूट जाते हैं, इसलिए ग्राम प्रधान, ग्राम सचिव को भी इस अभियान में शामिल किया गया है।”

ये भी पढ़ें- वीडियो : अपनी संतान के लिए माँ के त्याग की पहचान है सकट त्योहार ( भाग - एक )

बाल स्वच्छता रथ

Share it
Share it
Share it
Top