Read latest updates about "आजीविका कनेक्शन" - Page 1

  • कर्ज के चंगुल से मुक्त हो चुकी हैं ये महिलाएं, महाजन के आगे अब नहीं जोड़ने पड़ते हाथ

    पलामू (झारखंड)। केसमानी देवी आज भी ये बताते हुए अपने आंसुओं को नहीं रोक पाईं जब उन्हें एक बार साहूकार से कर्ज लेने के लिए कितनी मिन्नतें करनी पड़ी थी तब कहीं जाकर उन्हें 10 रुपए सैकड़ा ब्याज पर कुछ रुपए मिले थे। समूह में जुड़ने के बाद अब ये शान की जिन्दगी जीती हैं क्योंकि कर्ज लेने के लिए अब इन्हें...

  • कभी करती थीं मजदूरी अब हैं सफल महिला किसान

    पश्चिम सिंहभूमि (झारखंड)। सुदूर पहाड़ी क्षेत्र के जंगलों में रहने वाली आदिवासी महिला किसान गुलबरी गो अपने खेत में लहलहाती फसल को देखकर मुस्कुरा रही थी, 'सोचा नहीं था कि लीज पर खेती लेकर अच्छी खेती कर पाएंगे। अब तो हर दिन सब्जी बेचकर 1500 रुपए की आमदनी हो जाती है।'खेती के आधुनिक तौर-तरीके सीखकर...

  • हुनर से बदला जिन्दगी का ताना बाना

    (पाकुड़) झारखण्ड। ग्रामीण क्षेत्र में जिन हाथों में हुनर है पर वो पैसे के अभाव में अपने हुनर को आकार देने में सक्षम नहीं हैं ऐसे लोगों को झारखंड स्टेट लाइवलीहुड मिशन सोसाइटी आजीविका मिशन के तहत रोजगार से जोड़ने का काम कर रहा है। जिसमें से अब्दुल रहीम एक हैं जो हैंडलूम के जरिए अपने हुनर को निखार रहे...

  • पाई-पाई जोड़ झारखंड की इन महिला मजदूरों ने जमा किए 96 करोड़ रुपए, अब नहीं लगाती साहूकारों के चक्कर

    रांची (झारखंड)। भरी दोपहरी में लकड़ी बेचकर सात किलोमीटर पैदल चलकर आयी वनमालिन देवी भले ही बहुत मेहनत से दिन के 100 रुपए कमाकर लाई हो लेकिन वह स्वयं सहायता समूह में हफ़्ते के दस रुपए बचत करना कभी नहीं भूलती क्योंकि वह जानती है कि रोजाना 100 रुपए दिहाड़ी कमाने वाली महिला को जरूरत पड़ने पर कभी कोई उधारी...

Share it
Top