Read latest updates about "आजीविका कनेक्शन" - Page 1

  • हुनर से बदला जिन्दगी का ताना बाना

    (पाकुड़) झारखण्ड। ग्रामीण क्षेत्र में जिन हाथों में हुनर है पर वो पैसे के अभाव में अपने हुनर को आकार देने में सक्षम नहीं हैं ऐसे लोगों को झारखंड स्टेट लाइवलीहुड मिशन सोसाइटी आजीविका मिशन के तहत रोजगार से जोड़ने का काम कर रहा है। जिसमें से अब्दुल रहीम एक हैं जो हैंडलूम के जरिए अपने हुनर को निखार रहे...

  • पाई-पाई जोड़ झारखंड की इन महिला मजदूरों ने जमा किए 96 करोड़ रुपए, अब नहीं लगाती साहूकारों के चक्कर

    रांची (झारखंड)। भरी दोपहरी में लकड़ी बेचकर सात किलोमीटर पैदल चलकर आयी वनमालिन देवी भले ही बहुत मेहनत से दिन के 100 रुपए कमाकर लाई हो लेकिन वह स्वयं सहायता समूह में हफ़्ते के दस रुपए बचत करना कभी नहीं भूलती क्योंकि वह जानती है कि रोजाना 100 रुपए दिहाड़ी कमाने वाली महिला को जरूरत पड़ने पर कभी कोई उधारी...

  • इस राज्य की महिलाओं के लिए एटीएम हैं बकरियां

    रामगढ़ (झारखंड)। आदिवासी बाहुल्य झारखंड को जंगलों की जमीन भी कहा जा सकता है। पहाड़ियों के नीचे यहां कोयला, अभ्रक, लोहा जैसी खनिज संपदा है तो ऊपर कुदरत ने खूब हरियाली दी है। झारखंड की ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ महिलाएं हैं। और इन महिलाओं के लिए बकरियां और मुर्गियां एक तरह से एटीएम हैं, यानि ऐनी...

  • झारखंड की ग्रामीण महिलाएं सामुदायिक पत्रकार बनकर बनेंगी अपने गांव की आवाज़

    धनबाद (झारखंड)। सोनपुरा गांव की रहने वाली खुशबू देवी (27 वर्ष) महिला किसान हैं, वो महिलाओं के स्वयं सहायता समूह सखी मंडल की सक्रिय सदस्य हैं। खुशबू अपने गांव की उपलब्धियां, इलाके की समस्याओं को गांव कनेक्शन अखबार के माध्यम से उठाएंगी। धनबाद में चार दिन के प्रशिक्षण के बाद अब खुशबू सामुदायिक पत्रकार...

Share it
Share it
Share it
Top