Arvind Shukkla

Arvind Shukkla

पिछले 13 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्यरत अरविंद शुक्ला गांव कनेक्शन में डिप्टी न्यूज एडिटर हैं (डिजिटल हेड)। खेती-किसानी और ग्रामीण विकास के क्षेत्र पर रिपोर्टिंग करते हैं। गांव कनेक्शन से पहले कई अख़बारों और समाचार चैनलों में काम कर चुके हैं।


  • तो क्या चुनावी मुद्दा और राजनीति का केंद्र बनेंगे किसान ?

    लखनऊ। किसानों का सब्र टूट गया है, सरकार की नीतियों के विरोध में कई राज्यों में किसान हड़ताल पर चले गए हैं। किसान स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने, पूरे देश के किसानों का पूरा कर्ज़ा माफ करने और किसानों को पेंशन देने की मांग रह रहे हैं। अपनी-अपनी मांगों को लेकर पूरे देश में 300 से ज्यादा...

  • Farmers Begin 10-Day Gaon Bandh, Milk, Vegetable Supply To Cities May Be Affected

    Farmers in Madhya Pradesh and several states have launched a 10-day-long "Gaon bandh" as part of a nationwide strike to press for their demands. So far, the agitation has not affected normal life in these states but it is likely to hit the supply of essential items like milk and vegetables in the...

  • मच्छर से मौत कब बनेगी चुनावी मुद्दा ? 

    लखनऊ। यूपी में विधानसभा चुनाव का विगुल बज चुका है। जाति, धर्म और राष्ट्रवाद के बहाने वोटरों के लुभाने और बांटने की कोशिश हो रही है, शहर और गाँव की गंदगी भी क्या चुनावी घोषणा पत्र में मुद्दा बन पाएगी, जिसमें पैदा हुए मच्छर और दूसरी बीमारियां हजारों लोगों की जान ले चुकी हैं तो कई हजार लोग इससे पीड़ित...

  • इंटरनेट साथी तोड़ रही हैं स्मार्टफोन को लेकर महिलाओं की झिझक

    लखनऊ। स्मार्टफोन और इंटरनेट को लेकर महिलाओं की झिझक तोड़ने और उन्हें जागरुक करने के लिए चलाए जा रहे गूगल इंडिया और टाटा ट्रस्ट के प्रोग्राम इंटरनेट साथी का असर दिखने लगा है। महिलाएं मोबाइल और टेबलेट से मेहंदी की डिजाइन से लेकर खाने तक की रेसिपी खोज रही हैं, कई महिलाओं ने इसी के सहारो रोजगार के जरिए...

  • बुंदेलखंड : कभी यहां पहाड़ियां दिखती थीं, अब पहाड़ियों से भी गहरे गड्ढे  

    गाँव कनेक्शन ने वर्ष 2016 में “बुंदेलखंड में 1000 घंटे वो कहानियां जो कही नहीं गईं” शीर्षक नाम से एक सीरीज चलाई थी। इसी सीरीज की एक खबर जो हमारे मुख्य संवाददाता अरविंद शुक्ला ने बंदेलखंड में खनन की समस्याओं पर की थी। नोट- संभव है कि अभी वर्तमान में वहां के हालात और अधिकारी बदल सकते हैं। बहुत...

  • हावभाव और हरकतों से पहचाने जा सकते हैं महिलाओं के प्रति गलत सोच रखने वाले लोग

    ‘अक्सर देखा गया है कि महिलाओं से जुड़े मामलों के बाद लोग सिर्फ पुलिस और सरकार को कठघरे में खड़ा कर देते हैं। लेकिन पुलिस आपके घर में छिपे चचेरे भाई, दूर के मामा, पड़ोसी और अंकल को कैसे कैसे पहचान पाएगी’“मेरे घर में दो नौकर थे। एक नौकर मेरी आठ वर्ष की बहन को हमेशा गलत तरीके से टच करता था। बहन तो...

  • क्या किसान आक्रोश की गूंज 2019 लोकसभा चुनाव में सुनाई देगी ?

    अब मध्य प्रदेश , महाराष्ट्र, दिल्ली और हरियाणा समेत कई राज्यों के किसान 1 जून से 10 जून तक गांव बंद का ऐलान कर चुके हैं। किसान संगठनों ने ऐलान किया है कि वो इन 10 दिनों में अपनी सब्जियां, दूध दही, और अनाज शहरों को नहीं भेजेंगे। 2017 के बाद 2018 भी किसान आंदोलनों और प्रदर्शनों के नाम जा रहा है।...

  • तीन तलाक : बात का बतंगड़ बनाना कोई हम भारतीयों से सीखे

    हम भारतीयों में बतंगड़ भी एक आर्ट की तरह है, जो हर धर्म में बिना किसी भेदभाव के बराबर है। कितना ही अच्छा, सामयिक और ज़रूरी मुद्दा क्यों न हो, हम उसे नया रूप देकर, बिगाड़ कर माँगेंगे.. और हद तक कोशिश करेंगे कि उसे धर्म से जोड़ दें, निजी ज़िंदगी पर ले जाएं। ट्रिपल तलाक़ (एक साथ) निहायत ही घटिया चीज़,...

Share it
Share it
Share it
Top