वाह ! तीन हजार रुपए से कारोबार शुरु कर प्रेरणा ने खड़ी कर दी करोड़ों के टर्नओवर वाली लेदर कंपनी

वाह ! तीन हजार रुपए से कारोबार शुरु कर प्रेरणा ने खड़ी कर दी करोड़ों के टर्नओवर वाली लेदर कंपनीप्रेरणा वर्मा इस महिला को समझाते हुए 

कानपुर। अपनी जमा पूंजी के तीन हजार रूपए से 12 साल पहले लेदर इंडस्ट्री में कदम रखने वाली प्रेरणा वर्मा आज करोड़ों का टर्नओवर करने वाले एक्सपोर्ट हाउस की मालकिन हैं। एक छोटे से कमरे में लेदर के फीते बनाने शुरू हुए थे, आज ‘क्रिएटिव इण्डिया’ में बने प्रोडक्ट की मांग दुनिया के 25 देशों में हैं।

कानपुर जिला मुख्यालय से पांच किलोमीटर दूर कौशलपुरी गुमटी में रहने वाली प्रेरणा वर्मा (35 वर्ष) अपने बिजनेस के सफर और तरक्की के बारे में मुस्कुराते हुए बताती हैं, “जब मैंने इस काम की शुरुआत की थी मुझे खुद भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि मेरा ये बिजनेस इतना सफल होगा। मैं मेहनत करती गयी और ये सफर आगे बढ़ता गया, आज हमारे बने प्रोडक्ट की मांग 20 से 25 देशो में हैं।”

वो आगे बताती हैं, “जब अपने घर में अपने इस काम की शुरुआत की थी, उस दौर में मेरा मोबाइल खर्च, मेरी स्कूटी के पेट्रोल का पैसा निकल आये बस इस बात की हमेशा चिंता रहती थी, सभी ने मेरा मजाक बनाया और कहा, ये बिजनेस करेंगीं। क्योंकि हमारा समाज आज भी ये स्वीकार करने में संकोच करता है कि कोई लड़की या महिला भी अकेले बिजनेस खड़ा कर सकती हैं।”

एक साधारण परिवार में जन्मी प्रेरणा के घर में उनकी माँ और एक छोटा भाई है। घर में पैसे की तंगी हमेशा से रही। घर के खर्चों में हाथ बंटाने के लिए प्रेरणा बारहवीं कक्षा से ही नौकरी करने लगीं थी। इन्होने पैसों को लेकर कभी बड़े बनने की उम्मीद नहीं पाली थी, बस इतना कमाना चाहती थी जिससे सिर्फ घर का खर्च और उनकी पढ़ाई पूरी होती रहे। साल 2004 में किसी के साथ पार्टनरशिप करके लेदर की डोरी के बिजनेस की शुरुआत की। आपसी तालमेल न रहने की वजह से ये पार्टनरशिप बहुत लम्बे समय तक नहीं चल सकी। उसी समय प्रेरणा को ये चुनौती दी गयी कि ‘ये क्या बिजनेस कर पाएंगी, जिन्हें बिजनेस के बारे में कुछ पता ही न हो’। ये बात प्रेरणा को चुभ गयी थी।

प्रेरणा ने बताया, “मुझे लगा नौकरी करके कुछ हजार रूपए तो मै कभी भी कमा सकती हूँ, क्यों न इस चुनौती को स्वीकार करूं कि मै भी बिजनेस कर सकती हूँ। सफलता या असफलता तो लगी ही रहती है, कुछ महीने इसी कशमकश में गुजर गये।” साल 2005 में प्रेरणा ने एक बार फिर अपने घर के छोटी से कोने में अपना छोटा सा आफिस बनाया और काम की शुरुआत कर दी। एक साल बाद प्रेरणा ने 2006 में अपनी कम्पनी ‘क्रिएटिव इण्डिया’ नाम से रजिस्ट्रेशन करा लिया। फजलगंज की इंडस्ट्रियल एरिया में आज ये फैक्ट्री चल रही है।

ये भी पढ़ें:- शहर की नौकरी छोड़ गाँव में बना रहे टोमैटो सॉस, साल की कमाई 30 लाख

फजलगंज की इंडस्ट्रियल एरिया में चलती है प्रेरणा की ये फैक्ट्री

सिर्फ तीन हजार से बिजनेस की हुई शुरुआत

प्रेरणा के पास न तो कोई मोटी जमा पूंजी थी और न ही किसी अपने का साथ था। इनके पास तीन हजार रूपए ही थे जिससे इन्होने बिजनेस करनी की ठान ली थी। प्रेरणा ने कहा, “मुझे असफल होने का बिल्कुल भी डर नहीं था, कोई भी काम में हार या जीत तो होती ही रहती है, घर से लेकर बाहर तक के लोगों को मेरे इस फैसले से एतराज था। मै उनकी मर्जी के हिसाब से काम नहीं कर सकती थी, मैंने लोगों की बातों का अनसुना किया।” वो आगे बताती हैं, “इस बिजनेस से मैंने सिर्फ इतनी ही उम्मीद रखी थी कि मेरे जरूरत के खर्चे पूरे होते रहें। कभी घाटा कभी मुनाफा ये उतार-चढ़ाव का दौर हमेशा चलता रहा।”

एक कमरे से शुरू हुआ ये बिजनेस आज फैक्ट्री तक पहुंच गया

लेदर के फीते बनाने की शुरुआत एक कमरे के कुछ जगह से हुई थी आज ये ‘क्रिएटिव इण्डिया’ फैक्ट्री तक पहुंच गया है। पचास से ज्यादा लोग इस फैक्ट्री से जुड़कर रोजगार पा रहे हैं। यहाँ पर लेदर की डोरी, कॉटन की डोरी, लेदर बैग्स, लेदर हैंडीक्राफ्ट जैसी तमाम चीजें बनती हैं। यहाँ के प्रोडक्ट की मांग 20 से 25 अलग-अलग देशों में होती है।

नेशनल स्तर पर कई बार इन्हें किया गया सम्मानित

प्रेरणा के इस जज्बे को खूब सराहना मिली है। नेशनल स्तर पर इन्हें तीन अवार्ड मिल चुके हैं। साल 2015 में एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्राफ्ट, 2016 में नेशनल प्रोडक्टिविटी काउंसिल, 2017 में एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्राफ्ट पुन: मिला। 2017 में ही भारत सरकार की तरफ से साउथ कोरिया में हुई इंटरनेशनल कार्यशाला में जाने का मौका मिला। जिसका मुख्य उद्देश्य था अपने बिजनेस को और कैसे बेहतर किया जाए। प्राइवेट संस्था से सिर्फ प्रेरणा को जाने का मौका मिला था। स्थानीय स्तर पर भी इन्हें कई संस्थाओं ने न सिर्फ सराहा है बल्कि कई बार सम्मानित भी किया जा चुका है।

ये भी पढ़ें- खेल की दुनिया में कैसे चमका 500 रुपए महीने कमाने वाले गरीब की बेटी का किस्मत का सितारा

कई लोग पूंछने आते हैं इनसे बिजनेस का हुनर

प्रेरणा की कामयाबी इस तरह छा गयी है, कई लोग इनसे बिजनेस करने की सलाह लेने भी आते हैं। प्रेरणा ने कहा, “इससे पहले मुझे भी कोई बिजनेस करने का अनुभव नहीं था, पर मैंने जिस काम को किया उसी में लगी रही और उसी में नये मौके तलाशती रही। जिस काम में जिसकी रूचि हो वही काम मन लगाकर करे सफलता जरुर मिलेगी।” वो आगे बताती हैं, “कोई भी बिजनेस को खड़ा करने में सफलता एक या दो साल में नहीं मिलती है, ये एक लम्बी प्रक्रिया है जिसमे लगना पड़ता है, मुझे भी अपने बिजनेस को यहाँ तक पहुँचाने में 12 साल लग गये, तब कहीं जाकर आज हमारी कम्पनी करोड़ों का टर्नओवर दे रही है। शुरुआती कुछ साल बिजनेस सीखने में ही गुजर जाता है, कभी निराश न हो महिला या पुरुष बिजनेस कोई भी कर सकता है बस उसमे लगन और हिम्मत होनी चाहिए।”

गुस्से को उर्जा में बदला

प्रेरणा को लोगों की बाते सुनकर गुस्सा आता था, पर इस गुस्से को इन्होने हमेशा उर्जा में बदला। इन्हें बिजनेस में नुकसान हो या मुनाफा पर ये अपना धैर्य नहीं खोती हैं। अपनी टीम के साथ आज भी हंसी-मजाक करते हुए इनके पूरे दिन का काम होता है। गुस्से और उदासी को प्रेरणा ने हमेशा दूर रखा। प्रेरणा इसी हंसी को अपनी ताकत मानती हैं।

ये भी पढ़ें :-

FIFA U-17 World Cup : खेल के जरिए खोई बहनों को खोजना चाहती है ये लड़की, प्रधानमंत्री से लगाएगी गुहार

एक महिला इंजीनियर किसानों को सिखा रही है बिना खर्च किए कैसे करें खेती से कमाई

गूगल अलर्ट बनाने वाले इंजीनियर ने नौकरी छोड़ शुरू की खेती, सालाना करते हैं 18 करोड़ की कमाई

बासी फूलों का ऐसा उपयोग... कमाई भी और सफाई भी

मुर्गी पालन अच्छी कमाई का जरिया

First Published: 2017-10-24 18:41:51.0

Share it
Share it
Share it
Top