ऐसे ही बढ़ती रहीं डीजल की कीमतें तो बिगड़ेगा आप की रसोई का बजट

डीजल की बढ़ी कीमतों का सीधा असर किसान और ट्रांसपोर्ट पर पड़ा है, जिसके चलते कुछ चीजें तत्काल महंगी हुई हैं, जबकि कुछ पर असर आने वाले दिनों में दिखेगा।

ऐसे ही बढ़ती रहीं डीजल की कीमतें तो बिगड़ेगा आप की रसोई का बजट

लखनऊ। एक महीने में आलू की कीमतों में करीब 8 रुपए की बढ़ोतरी हुई है। हरी सब्जियों की कीमतों में भी बढ़ोतरी है। तापमान बढ़ने के साथ हरी सब्जियों की कीमतों में बढ़ोतरी आम बात है लेकिन इस बार पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों का असर आपके बजट पर पड़ेगा। मार्केट की समझ रखने वालों की माने तो डीजल की कीमतों का असर आने वाले दिनों में आपको झटका दे सकता है।

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी का असर आम जनता पर दिखने लगा है। नाराज लोग सड़कों पर उतर रहे हैं। पेट्रोल की कीमतें बढ़ने से जहां लोगों का आवागमन महंगा हुआ है वहीं डीजल की कीमतों ने अर्थव्यवस्था पर असर दिखाना शुरु कर दिया है। डीजल की बढ़ी कीमतों का सीधा असर किसान और ट्रांसपोर्ट पर पड़ा है, जिसके चलते कुछ चीजें तत्काल महंगी हुई हैं, जबकि कुछ पर असर आने वाले दिनों में दिखेगा।


ये भी पढ़ें : किसानों को कर्ज के दुष्चक्र में फंसाकर मजबूर किया जाता है कि वे अधिक से अधिक कर्ज लें

दिल्ली स्थित आजादपुर सब्जी मंडी में प्याज, आलू और टमाटर के थोक कारोबारी राजेंद्र शर्मा के मुताबिक आलू समेत दूसरी सब्जियों की बढ़ी कीमतों पर अभी डीजल की महंगाई का असर नहीं लेकिन आने वाले दिनों में दिख सकता है। गांव कनेक्शन को वो फोन पर बताते हैं, "डीजल की कीमतें बढ़ने से माल ढुलाई की लागत बढ़ जाती है। लेकिन जिन वस्तुओं के दाम तय नहीं है, जैसे फस, सब्जी आदि इन पर पेट्रोल-डीजल या किसी महंगाई का तुरंत असर नहीं दिखता है। क्योंकि इनके रेट मांग और आपूर्ति पर निर्भर करते हैं।"

ये भी पढ़ें : अपनी मांगों के लिए किसान 31 मई को फिर कूच करेंगे दिल्ली

शर्मा आगे बताते हैं, आज जो डीजल की कीमतें हैं उसका असर फसलों की बुआई पर पड़ेगा, जुताई और सिंचाई महंगी होने किसानों की इसकी कीमत चुकानी होगी। भारत में इन दिनों खरीफ के सीजन में धान और मक्का समेत कई फसलों की बुआई की शुरु हो चुकी है। इसके साथ ही हरी सब्जियों में गर्मी के चलते हफ्ते में कई बार सिंचाई करनी पड़ती है, महंगे डीजल से ये चीजें प्रभावित होंगी।

यूपी के लखनऊ में स्थित नवीन गल्ला मंडी के सब्जियों के कारोबारी जसवंत सोनकर के मुताबिक माल भाड़ा बढ़ा है, जिसका असर मामूली रूप से सब्जियों और फलों की कीमतों पर पड़ा है। लेकिन ट्रांसपोटेशन महंगा होने से आम के सीजन पर इसका असर पड़ेगा। आम लोगों को आम महंगे मिल सके हैं, जबकि किसानों को इससे नुकसान हो सकता है।

ये भी पढ़ें : आमदनी दोगुनी करने के वादों के बीच किसानों की आत्महत्या का सिलसिला जारी है, आंकड़े गवाह हैं...

लखनऊ के गोमतीनगर में स्थित आदर्श सब्जी और गल्ला मंडी में व्यापारी इसरार बताते हैं कि डीजल के दाम बढ़ने से माल की लागत में बढ़त होने से मुनाफे में कमी आई है। पेट्रोल महंगा होने से हम लोगों का आने जाने का खर्च बढ़ा है। यहीं पर सब्जी के फुटकर विक्रेता विपिन कुमार बताते हैं, पिछले एक महीने में आलू की कीमतों में 5 से 8 रुपए की बढ़ोतरी देखी गई है।"

डीजल की कीमतों के विरोध में पंजाब के लुधियाना में हजारों किसानों ने ट्रैक्टर मार्च निकाला। एसडीएम को सौंपे ज्ञापन में किसानों ने कहा कि वो इतना महंगा डीजल लेकर खेती नहीं कर सकते, इसलिए ट्रैक्टर सरकार रख लें। वहीं यूपी के बाराबंकी में भारतीय किसान यूनियन (भानु गुट) ने पेट्रोल और डीजल की बढ़ी कीमतों को लेकर किसान सभा का आयोजन कर सरकार को तुरंत कीमतें कम करने का अल्टीमेटम दिया।

रिपोर्टिंग- अमित कुमार

ये भी पढ़ें- कीटनाशकों पर पाबंदी लगाने में क्यों पिछड़ रही है सरकार ?

मौसम की मेहरबानी से आलू किसानों की बल्ले-बल्ले, अभी और बढ़ सकते हैं आलू के दाम

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top