भारत में सोया तेल का आयात होगा महंगा 

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   23 March 2018 3:05 PM GMT

भारत में सोया तेल का आयात होगा महंगा सोयाबीन

नई दिल्ली। आने वाले दिनों में भारत में सोया तेल का आयात महंगा हो सकता है। विश्व में अर्जेंटीना सोयाबीन का एक प्रमुख उत्पादक देश है। इस साल अर्जेंटीना में सूखा पड़ने की वजह से फसल खराब होने की आशंका के बीच उत्पादन कम होने की उम्मीद है। भारत सबसे ज्यादा सोया तेल का आयात अर्जेंटीना से करता है।

अर्जेंटीना ब्यूनस आयर्स ग्रेन एक्सचेंज (बीएजीई) का अनुमान है कि सूखे की वजह से अर्जेंटीना में इस साल सोयाबीन का उत्पादन घट सकता है। बीएजीई ने अपनी हालिया रिपोर्ट में गुरुवार को अर्जेंटीना के सोयाबीन उत्पादन के अपने अनुमान में 25 लाख टन की कटौती कर 395 लाख टन रहने की उम्मीद जताई है। इससे पहले सोयाबीन उत्पादन 420 लाख टन रहने का अनुमान जारी किया गया था।

ये भी पढ़ें- सोनिया गांधी की तबियत बिगड़ी

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म 'सोयाबीन एंड कॉर्न एडवाइजर' के मुताबिक अर्जेटीना में पिछले सप्ताहांत में बारिश हुई, लेकिन उससे फसलों को बहुत राहत नहीं मिली है। वहां, सूखे की वजह से पिछले सप्ताह बारिश होने से पहले तकरीबन 80 फीसदी फसल बेहद खराब हालत में बताई जा रही थी और 88 फीसदी खराब से थोड़ा कम खराब हालत में थी।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में 10 राज्यसभा सीटों के लिए मतदान जारी, एक बसपा व एक सपा विधायक ने भाजपा को दिया वोट  

साल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीईए) के मुताबिक भारत ने जनवरी 2018 में 2.24 लाख टन सोया तेल का आयात किया, जो पिछले साल 1.66 लाख टन से करीब 35 फीसदी है। इस तरह भारत सालाना 22.25 लाख टन सोया तेल का आयात करता है और देश में ज्यादातर अर्जेंटीना से ही सोया तेल मंगाया जाता है।

ये भी पढ़ें- सोयाबीन की औसत उत्पादकता 1,200 किग्रा प्रति हेक्टेयर पहुंचने की उम्मीद  

सीईए के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर डॉ. बी. वी मेहता ने पिछले दिनों कहा, "खाद्य तेल की हमारी तकरीबन 70 फीसदी जरूरत आयात से पूर्ति होती है। ऐसे में आयात से निर्भरता कम करने के लिए घरेलू उत्पादन बढ़ाने की जरूरत है जिसके लिए किसानों को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए।"

ये भी पढ़ें- मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना शुरू, मंडी में भावों के उतार-चढ़ाव से किसानों की करेगी सुरक्षा 

उन्होंने कहा कि भावांतर योजना को अगर देशभर में सही तरीके से अमल में लाया जाए तो किसानों को उनकी फसल का दाम मिलेगा और तिलहनों का उत्पादन बढ़ेगा।

ये भी पढ़ें- लंबे समय से मध्य प्रदेश की पहचान रहे सोयाबीन की खेती से अब दूर हो रहे किसान

खाद्य तेल बाजार के जानकार मुंबई के सलील जैन बताते हैं कि घरेलू खाद्य तेल उद्योग की ओर से सोया तेल के आयात पर शुल्क बढ़ाने की मांग की जा रही है। अगर सरकार सोया और सूर्यमुखी तेल पर आयात शुल्क बढ़ाती है तो किसानों को अभी कोई फायदा तो नहीं मिलेगा लेकिन उपभोक्ताओं के लिए तेल जरूर महंगा हो जाएगा।

ये भी पढ़ें- मध्यप्रदेश में सोयाबीन की फसल पर संकट, हरदा में किसान ने 6 एकड़ फसल जुतवाई

इस समय क्रूड सोया तेल पर आयात शुल्क 30 फीसदी और और रिफाइंड सोया तेल पर आयात शुल्क 35 फीसदी है। पिछले दिनों एक मार्च को क्रूड पाम तेल पर आयात शुल्क 30 फीसदी से बढ़ाकर 44 फीसदी और रिफाइंड पाम तेल पर 40 फीसदी से बढ़ाकर 54 फीसदी किए जाने के बाद से सोया और सूर्यमुखी समेत अन्य खाद्य तेल के आयात पर शुल्क बढ़ाने की मांग की जा रही है।

डॉ बी.वी मेहता का कहना है कि सभी खाद्य तेल पर एक समान आयात शुल्क होना चाहिए।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में बढ़ेगी सोयाबीन की खेती

उन्होंने बताया कि अर्जेंटीना में फसल खराब होने से भारत में जहां सोया तेल महंगा होगा वहीं, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में अर्जेंटीना के डीओसी का भाव बढ़ने से भारत के डीओसी की मांग निकलेगी जिससे घरेलू बाजार में सोयाबीन की कीमतों को सहारा मिलेगा।

ये भी पढ़ें- सोयाबीन की नई किस्म से किसानों की चांदी

कृषि व्यापार से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट आईएएनएस

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top