मेघालय के नए मुख्यमंत्री कोनराड संगमा के बारे में जानिए

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   6 March 2018 6:22 PM GMT

मेघालय के नए मुख्यमंत्री कोनराड संगमा के बारे में जानिएमेघालय के नए मुख्यमंत्री कोनराड संगमा से हाथ मिलाते भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह

शिलॉन्ग। मेघालय के नए मुख्यमंत्री का नाम है कोनराड संगमा। पिता का नाम पी ए संगमा पूर्व लोकसभा अध्यक्ष। पिता के मुख्यमंत्री बनने के ठीक 30 साल बाद कोनराड संगमा (40 वर्ष) ने आज मेघालय के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

ये भी पढ़ें- अब किसानों की बारी, भाजपा की जीत का गणित बिगाड़ सकते हैं किसान

अपने पिता की छत्रछाया में कम उम्र में राजनीति में आने वाले कोनराड संगमा ने मेघालय विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी एनपीपी का सफलतापूर्वक नेतृत्व किया और कांग्रेस के खिलाफ क्षेत्रीय दलों को एकजुट किया। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष पी ए संगमा के बेटे कोनराड संगमा (40 वर्ष) ने मार्च 2016 में अपने पिता के निधन के बाद नेशनल पीपुल्स पार्टी का प्रभार संभाला और इसे कांग्रेस के खिलाफ मुख्य प्रतियोगी के तौर पर पेश किया। राज्य में कांग्रेस की दस वर्षों तक सत्ता थी।

ये भी पढ़ें- इंसान इंसानों की बनाई संपत्ति का विनाश करे तो ‘दंगाई’ और प्रकृति का अतिदोहन करे तो ‘विकास’, वाह !

एनपीपी ने वर्ष 2013 के विधानसभा चुनावों में 32 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिसमें केवल दो सीटों पर उसे जीत मिली थी और उसका मत प्रतिशत दस फीसदी से भी कम था। यहां तक कि कोनराड संगमा भी बड़े अंतर से हार गए थे। लेकिन वर्ष 2016 में तूरा लोकसभा सीट से उपचुनाव जीतने के बाद उनकी तकदीर पलटने लगी। कोनराड संगमा ने तत्कालीन मुख्यमंत्री मुकुल संगमा की पत्नी डक्किानची डी शिरा को करीब दो लाख से ज्यादा वोटों से हराया और अपने पिता की सीट को बरकरार रखा। उनके पिता इस सीट पर चार दशक से ज्यादा समय तक जीतते रहे।

ये भी पढ़ें- मधुमक्खीपालकों के लिए यह खबर बुरी हो सकती है

उनके पिता पूर्नो ए. संगमा नौ बार सांसद रहे और वर्ष 1988 से वर्ष 1990 तक मेघालय के मुख्यमंत्री रहे। कोनराड आज मेघालय के 12वें मुख्यमंत्री बने। उन्होंने राजनीति में अपना पहला पाठ वर्ष 1999 में तब सीखा जब उन्हें उनके पिता का प्रचार प्रबंधक बनाया गया।

ये भी पढ़ें- अब गोबर और गौमूत्र के सहारे ही जुटेंगे रोजगार, करेगा इंडिया शाइन !

उस समय पीए संगमा ने कांग्रेस छोड़ दिया था और शरद पवार की पार्टी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) से नजदीक से जुड़ गए। उन्होंने वर्ष 2013 में राकांपा से संबंध तोड़कर एनपीपी का गठन किया था। लंदन विश्वविद्यालय से आंत्रेप्रेन्युरियल प्रबंधन और वित्त में स्नातक कोनराड संगमा 2008 में राज्य विधानसभा के लिए चुने गए और डोनकूपर रॉय नीत कांग्रेस सरकार में एक वर्ष तक वित्त मंत्री रहे। वह विधानसभा में वर्ष 2010 से वर्ष 2013 के बीच विपक्ष के नेता रहे। उनकी पार्टी ने इस वर्ष राज्य विधानसभा चुनावों में 51 सीटों पर चुनाव लड़ा जिसमें से 19 सीटों पर उन्होंने चुनाव जीतकर पिछले दो दशक में किसी क्षेत्रीय दल द्वारा सबसे ज्यादा सीट हासिल की। उनका वोट प्रतिशत 20.6 रहा।

ये भी पढ़ें- देश का ऐसा राज्य जो अलग कृषि बजट पेश करने वाला था पर उसका सपना टूट गया 

ऑल पार्टी हिल लीडर्स कन्फ्रेंस ने वर्ष 1972 में32 सीटों पर जीत दर्ज की थी। कोनराड संगमा ने अन्य क्षेत्रीय दलों, भाजपा और एक निर्दलीय विधायक के सहयोग से गठबंधन की सरकार बनाई।

एनपीपी नेता का जन्म तूरा में हुआ था जो पश्चिम गारो हल्सि जिला के गारो हिल्स डिविजन का मुख्यालय है। वह वर्तमान में इसी संसदीय क्षेत्र से लोकसभा में सांसद हैं।

मेघालय के 12वें मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले कोनराड संगमा की मां सोरादीनी के संगमा की खुशी साफ झलक रही थी। उन्होंने बेटे को यह जिम्मेदारी मिलने को सपना सच होने जैसा बताया। मां सोरादिनी ने कहा, मैं थोड़ी भावुक हो रही हूं। यह उनके दिवंगत पिता पुरनो ए संगमा का सपना था, वह अपने बेटे को इस पद पर देखना चाहते थे। ईश्वर दयालु है।

ये भी पढ़ें- बरसात में कमी इस वर्ष घटा सकती है शहद की मिठास

राजनीति से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इनपुट भाषा

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top