‘वन सिटी वन विलेज की योजना के साथ करना है काम’ : प्रो. सूर्यकांत

‘वन सिटी वन विलेज की योजना के साथ करना है काम’ : प्रो. सूर्यकांतसाभार: इंटरनेट।

ईश्वरी शुक्ला

लखनऊ। किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के श्वसन विभाग के अध्यक्ष प्रो. सूर्यकांत ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन लखनऊ के नये अध्यक्ष के रूप में चार्ज लिया। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन भारत में चिकित्सकों का सबसे बड़ा संगठन है। इस तरह से अध्यक्ष का कार्यकाल तीन साल का होता है ।

डॉ. सूर्यकांत का जन्म इटावा के एक छोटे से गाँव में हुआ। इन्होंने अपनी शिक्षा इटावा से ही पूरी की। पहले ही प्रयास में किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में एमबीबीएस में दाखिला पा लिया, जिसके बाद इन्होंने यहीं से एमडी की पढ़ाई की, जिसमें इन्हें गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया। आईएमए में अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित होने से पहले भी डॉ. सूर्यकांत ने वहां पर कई और पदों पर जैसे वाईसप्रेसिडेंट और एडिटर के रूप में काम किया।

ये भी पढ़ें- स्तन कैंसर: डरने की नहीं समय पर इलाज की जरूरत

अपने एडिटर के रूप में कार्यकाल के दौरान इन्होंने लखनऊ मेडिकल जर्नल नाम से एक पत्रिका भी शुरू की। डॉ. सूर्यकांत का कहना है कि वो इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के नये अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान वन सिटी वन विलेज की योजना के साथ काम करेंगे, जिसका मतलब है की लखनऊ की इंडियन मेडिकल एसोसिएशन एक गाँव साथ लेकर काम करेगी और उस गाँव की सारी जरूरतों को मुहैया कराएगी जो सेहत के हिसाब से जरूरी हो, जिससे उस गाँव का विकास भी हो सके ये भारत में पहला ऐसा कदम होगा।

ये भी पढ़ें- बुजुर्गों के लिए इसलिए खतरनाक होती हैं सर्दियां

कई अवार्ड से हो चुके हैं सम्मानित

डॉ. सूर्यकांत को प्रतिष्ठित डॉक्टर लैचमैन्स कैंसर अवेयरनेस एंड रिसर्च अवार्ड से सम्मानित किया गया है। ये पुरस्कार कैंसर रोगों के बारे में उनके द्वारा किये गये कार्यों के लिए दिया गया। डॉ. सूर्यकांत इंडियन मेडिकल चेस्ट सोसाइटी के अध्यक्ष भी हैं , वो पहले इंडियन साइंस कांग्रेस एसोसिएशन के मेडिकल साइंस विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष और इंडियन चेस्ट सोसाइटी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

संबंधित खबरें- हार्ट अटैक : दिल न खुश होता है न दुखी, दिनचर्या बदलकर इस तरह करें बचाव

अस्पतालों की लाइनें डराती हैं, ‘सरकारी अस्पताल ले जाते तो पति मर ही जाते’

उत्तर प्रदेश : निजी अस्पतालों के खर्चों और लापरवाही पर स्वास्थ्य विभाग का अंकुश नहीं

Tags:    Kgmu 
Share it
Top