स्पोर्ट्स

भारतीय युवा महिला मुक्केबाजों में शानदार प्रतिभा, क्षमता : मैरी कॉम

नई दिल्ली (आईएएनएस)। बीते महीने तुर्की में शानदार प्रदर्शन करने के बाद भारत का युवा मुक्केबाजी प्रतिनिधिमंडल अगले महीने गुवाहाटी में होने वाली एआईबीए यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में अपने फन का लोहा मनवाने के लिए तैयार है।

इस चैम्पियनशिप में राफेल और भाष्कर भट्ट के नेतृत्व में 30 सदस्यीय भारतीय दल अपनी चुनौती पेश करेगा। अभी भारतीय टीम इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में अंतिम चरण का प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है। यह टीम खुद को अपने अब तक के सबसे अच्छे प्रदर्शन के लिए तैयार है।

ये भी पढ़ें- आईसीसी ने चार दिनों के टेस्ट मैच के ट्रायल को दी मंजूरी, इस सीरीज से होगी शुरुआत

युवा मुक्केबाज सीनियर टीम के साथ अभ्यास कर रहे हैं। सीनियर टीम में 2012 लंदन ओलम्पिक में कांस्य पदक जीत चुकीं भारत की सबसे बड़ी महिला मुक्केबाज एमसी मेरी कॉम और पूर्व विश्व चैम्पियन लैशराम सरिता देवी शामिल हैं। टीम जिस तरह अभ्यास कर रही है, उसने न सिर्फ कोचिंग स्टाफ को प्रभावित किया और उन्हें आत्मविश्वास से सराबोर किया है बल्कि इन खिलाड़ियों ने मैरी कोम की तारीफ भी बटोरी है। मैरी ने कहा, "कैम्प के दौरान मैं खिलाड़ियों से मिलती रहती हूं। इस टीम में काफी क्षमता है। इन खिलाड़ियों को बस यह बताने की जरूरत है कि उनका लक्ष्य क्या है। आप यकीन कीजिए, इन खिलाड़ियों में से जल्द ही कोई चैम्पियन बनकर उभरेगा।"

ये भी पढ़ें- आशीष नेहरा एक नवम्बर को खेलेंगे अपना आखिरी अंतर्राष्ट्रीय मैच, लेंगे सन्यास

मैरी कोम ने कहा, "प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की नई खेप देखकर अच्छा लगता है। हमारे पास आज जिस तरह की प्रतिभा है, उसे देखते हुए यह कहना गलत नहीं होगा कि भारतीय मुक्केबाजी सही दिशा में अग्रसर है।"

यूथ वर्ल्ड चैम्पियनशिप में भारत की पदक जीतने की सम्भावनाओं के बारे में पूछे जाने पर मैरी कोम ने कहा, "कितने पदक आएंगे, यह कोई नहीं बता सकता। मैं भी सही-सही नहीं बता सकती लेकिन इतना जरूर कह सकती हूं कि इन लड़कियों में काफी प्रतिभा है और ये काफी मेहनती हैं। मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि ये अपने दमखम के दम पर टूर्नामेंट में भारत का नाम रोशन करेंगी।"

ये भी पढ़ें- FIFA U-17 World Cup : खेल के जरिए खोई बहनों को खोजना चाहती है ये लड़की, प्रधानमंत्री से लगाएगी गुहार

भिवानी की साक्षी, जो कि 48 किग्राम में पूर्व जूनियर विश्व चैम्पियन रह चुकी हैं, आने वाले आयोजन के लिहाज से सबकी निगाहों में हैं। साक्षी मानती हैं कि मैरी कॉम और सरिता देवी जैसी सीनियर खिलाड़ियों के साथ कैम्प में रहने से उनके मनोबल बढ़ा है। साक्षी ने कहा, "हमने मैरी (दी) को देखकर मुक्केबाजी सीखी है और वह अब हमारे साथ अभ्यास कर रही हैं। इससे हमें निश्चित तौर पर फायदा होगा। यह देखकर काफी अच्छा लगता है कि इतनी उम्र में भी वह कितनी मेहनत करती हैं। वह एक मां हैं और यह बात और भी हैरान करती है। मैरी दी से टिप्स पाना हमारे लिए काफी फायदेमंद रहेगा और इससे हमें अगले टूर्नामेंट में अच्छा खेलने की प्रेरणा मिलेगी।"

एआईबीए यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पियनशिप का आयोजन 19 से 26 नवम्बर तक गुवाहाटी में होगा। भारत में पहली बार इस टूर्नामेंट का आयोजन हो रहा है।

ये भी पढ़ें- भारतीय महिला एथलीट को विदेश में लेना पड़ा था उधार, इस खिलाड़ी ने खेल मंत्री को दी नसीहत