पुलिस के दोस्त बने बच्चे, प्राथमिक स्कूल पवोरा में पौधरोपण

Mo. ParvezMo. Parvez   15 July 2017 8:36 PM GMT

पुलिस के दोस्त बने बच्चे, प्राथमिक स्कूल पवोरा में पौधरोपणबच्चों ने पुलिस के साथ किये पौधरोपड़ 

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

तिर्वा (कन्नौज)। ‘‘जब पुलिसवाले स्कूल आए तब हमें डर लग रहा था, जब उन्होंने हमें ड्रेस पेन और कॉपी दी, तब अच्छा लगा। जब वे स्कूल से जा रहे थे, तब हमसे हाथ मिलाया। दोस्ती और कहा की खूब पढ़ना, हम तुमसे मिलने फिर आएंगे।" कक्षा एक में पढ़ने वाले छात्र आकाश ने कहा।

जिला मुख्यालय से करीब 16 किमी दूर उमर्दा ब्लॉक क्षेत्र के प्राथमिक स्कूल पवोरा में बच्चों ने मिलकर पौधरोपड़ किया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि तिर्वा कोतवाली के एसएसआई अनवार अहमद भी पुलिस स्टाफ के साथ पहुंचे। बच्चों ने उनका स्वागत भी किया।

ये भी पढ़ें- हर्बल घोल की गंध से खेतों के पास नहीं फटकेंगी नीलगाय, ये 10 तरीके भी आजमा सकते हैं किसान

कक्षा पांच की छात्रा माही ने बताया, ‘‘पहले तो हम बिल्कुल चुप बैठे थे, जब हमें बुलाया तब बहुत डर लगा रहा था, हमसे कहा कि गंदे कपड़े पहन के आयी हो, किसी की शादी में कैसे कपड़े पहनती हो। हमने कहा कि अच्छा। तब उन्होंने कहा वैसे कपड़े पहनकर आया करो, जब मैडम ने हम लोगों से उनके साथ पेड़ लगाया तब हम लोगों में डर कम हुआ।"

पवोरा निवासी राजेश कुमार (35 वर्ष) बताते हैं ‘‘जब हम खेत से लौटे तो स्कूल खुला था और मेरे बच्चे घर पर ही थे, मैंने पत्नी से पूछा कि बच्चे स्कूल क्यों नहीं गए। तब उन्होंने बताया कि अध्यापकों से पता चला कि कल स्कूल में पुलिस वाले आएंगे, तो वह डर की वजह से स्कूल नहीं जा रहे हैं। मैं उनको तुरंत अपने साथ लेकर गया, कार्यक्रम देखकर बच्चों का डर दूर हुआ।"

‘‘मैं तो काफी दिनों से किसी स्कूल में जाने को सोच रहा था, लेकिन काम की अधिकता के कारण समय नहीं मिल पा रहा था। आज जब एसएचओ साहब ने मुझे बताया की आपको प्राथमिक स्कूल पवोरा में ड्रेस वितरण में जाना है। मुझे अन्दर से बहुत खुशी मिली कि आज वो दिन आ ही गया है। जिसका हमें इंतजार था। मैं तुरंत मार्केट गया। वहां से बच्चो के लिए कुछ पेन-कापी खरीदी। अपने साथियों के साथ स्कूल पहुंचा तो देखा कि बच्चे डरे सहमे से बैठे थे।

ये भी पढ़ें-अब केला और मिर्च उत्पादक किसान को भी मिलेगा फसल बीमा योजना का लाभ

मैंने बच्चो को अपने पास बुलाया। जो गंदे कपड़े पहने थे उन्हें साफ-सफाई के बारे में बताया और उनके बातचीत व वृक्षारोपण किया। तब बच्चे खुलकर बोले। उन्होंने मुझे भी भारत माता का चित्र भेंट किया। मुझे बहुत अच्छा लगा मैं समय निकालकर उनसे मिलने जरुर जाया करूंगा।’’ एसएसआई, तिर्वा कोतवाली, अनवार अहमद ने कहा।

प्राथमिक विद्यालय पवोरा, उर्मदा की हेड मास्टर रंजना शुक्ला ने बताया, "मैं तो हर बार ड्रेस वितरण विद्यालय के अध्यक्ष को बुलाकर करवाती थी। मेरे विद्यालय में तैनात अध्यापक ने कहा की अबकी बार पुलिस डिपार्टमेंट से वितरण कराएंगे। इस कार्यक्रम का आयोजन हमने बच्चों से ही कराया, जिससे बच्चों में डर कम हो सके।‘‘

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top