किसानों नहीं बिचौलियों की हो रही बल्ले—बल्ले

किसानों नहीं बिचौलियों की हो रही बल्ले—बल्लेप्रतीकात्मक तस्वीर

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

जौनपुर। इन दिनों सब्जियों के दाम में भारी उछाल आया है। टमाटर से लेकर तमाम सब्जियां मंहगी हो गई हैं। जबकि किसानों को इसका बहुत ज्यादा लाभ नहीं मिल रहा है। जबकि आम लोग सब्जियां महंगे दाम पर खरीद रहें हैं लेकिन इसका सीधा फायदा बिचौलिए उठा रहे हैं।बिचौलिए किसानों से सस्ते रेट पर सब्जियां खरीदकर आम लोगों को महंगे दामों में बेचकर मुनाफा कमा रहे हैं। हालांकि जो छोटे किसान अपनी सब्जियां सीधे मार्केट ग्राहकों को बेच रहे हैं। वह जरूर मुनाफा कमा रहे हैं।

गौराबादशाहपुर गांव के पटेला गांव निवासी सब्जी किसान श्याम बिहारी यादव (68वर्ष) का कहना है,“ उन्होंने मंडी में टमाटर बेचा था। जब मार्केट के दाम के हिसाब से रेट लगाने के लिए कहा तो खरीदार ने कहा कि सब्जी के दाम ज्यादा बढ़े नहीं है। सिर्फ अखबारों और टीवी पर ही रेट बढ़ाकर बताया जा रहा है। इसलिए उन्होंने कम रेट पर ही टमाटर बेचा। जबकि इन दिनों टमाटर 100 रुपए किलो बिक रहा है।”

ये भी पढ़ें- इस साल सस्ता हो सकता है चावल, बारिश से धान के बंपर उत्पादन की उम्मीद

गौराबादशाहपुर ब्लॉक के केशवपुर निवासी जगदीश मौर्य (36वर्ष) का कहना है,“ हम लोग सीधे आम लोगों को सब्जी बेच रहे हैं। इसलिए हमें मुनाफा हो रहा है। ”मछलीशहर ब्लॉक के देवापुर गांव निवासी बंशराज मौर्य (65वर्ष) का कहना है,“ मंडी में जो सब्जियों की खरीद करते हैं। वह किसानों को ज्यादा लाभ नहीं देते हैं। चाहे सब्जियों को रेट चाहे जितना भी ज्यादा हो। किसानों को सिर्फ चार से पांच रुपए तक का ही मुनाफा होता है।”

देवापुर के ही निवासी धर्मेंद यादव (30वर्ष) का कहना है,“ ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि किसानों को उनकी फसल का सही रेट मिले। इन दिनों सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं लेकिन ज्यादातर किसानों को इसका फायदा नहीं मिला। बिचौलिए इसका फायदा उठाते हैं। ”बरसठी ब्लॉक के खुआंवां निवासी घनश्याम मौर्य (36वर्ष) ने बताया,“ सब्जी सीधे ग्राहकों को बेचने पर फायदा मिल रहा है। ऐसा करने पर अच्छा मुनाफा हो रहा है। ”

ये भी पढ़ें- हर्बल घोल की गंध से खेतों के पास नहीं फटकेंगी नीलगाय, ये 10 तरीके भी आजमा सकते हैं किसान

चंद्रभानपुर निवासी राजन (30वर्ष) का कहना है,“ सब्जियों की जब ज्यादा पैदावार होती हैं तो मजबूरनमंडी में सब्जियां बेचनी पड़ती हैं। खरीदार अपने हिसाब से रेट लगाकर सब्जी खरीदता है। ऐसे में किसान को कैसे लाभ मिलेगा। ज्यादा मुनाफा तो वही कमाता है।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top