लखनऊ में चौपाल अधिकारियों ने सुनी समस्याएं, जल्द हल निकालने का किया वादा 

लखनऊ में चौपाल अधिकारियों ने सुनी समस्याएं, जल्द हल निकालने का किया वादा गाँव चौपाल में उपस्थित अधिकारी और ग्रामीण लोग 

आशीष यादव/स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

लखनऊ। कभी यहां के लोग किसान हुआ करते थे। सभी ग्रामीणों के पास रोजी-रोटी के लिए जमीन थी। जिस जगह पर कभी गेहूं और धान की फसल लहलहाती थी, वहीं पर अब कंक्रीट की बहुमंजिली इमारतें बन गई हैं।

अधिकारियों ने सुनी जनता की समस्याएं

ब्लॉक सरोजनी नगर के अंतर्गत ग्राम यूसुफ नगर बगिया मऊ में मंगलवार को मुख्य विकास अधिकारी प्रशांत शर्मा के सहयोग से गॉव चौपाल का आयोजन किया गया। चौपाल में सहायक विकास अधिकारी कृषि वीरेंद्र कुमार वर्मा, सहायक कोआपरेटिव विकास अधिकारी लक्ष्मी राम चंचल ,ग्राम सचिव सन्दीप कुमार यादव ,स्वास्थ्य कर्मी उर्मिला देवी ,ग्राम प्रधान सुनीता यादव,कोटेदार रमेश यादव व आशीष यादव सहित ग्रामीण मौजूद रहे ।

चौपाल में ग्राम सचिव संदीप कुमार यादव ने ग्रामीणों को वृद्धा पेंशन,विधवा पेंशन ,विकलांग पेंशन में आवेदन के तरीके बताये। सहायक विकास अधिकारी कृषि ने बताया,“ इस गॉव ने किसानों की पंजीकरण संख्या न के बराबर है। मौजूद किसानों को किसान पंजीकरण के फायदे बताते हुए किसान पंजीकरण कराने के आन लाइन और ऑफ लाइन तरीको से ग्रामीणों को अवगत कराया।”

ये भी पढ़ें- गाँव कनेक्शन चौपाल : अधिकारियों ने सुनी ग्रामीणों की समस्याएं

दिव्यांग अनूप (30वर्ष) ने बताया,“ दिव्यांग और पात्र होने के बाद भी उसे ब्लॉक द्वारा संचालित बायो श्री योजना के अंतर्गत ट्राई साइकिल नहीं दी गई।”

इस पर सहायक समाज कल्याण अधिकारी एमएल कनोजिया से बात की गई, जिस पर एडीओ समाज कल्याण ने इस केस को खुद देखने और पात्र को मदद दिलाने का आश्वसन दिया।

महिला स्वास्थ्य पर चर्चा के साथ वितरित की गई दवाइयां

चौपाल में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. जीएस बाजपेयी के सहयोग से सामान्य मौसमी बीमारियों की दवाई और परिवार नियोजन संबंधी दवाइयां ग्रामीण महिलाओं को वितरित की गई। चौपाल के दौरान किसान से मजदूर होते जा रहे किसानों ने अपनी दयनीय स्थिति के बारे में बताया ।

56 वर्षीय धनीराम ने बताया,“ हमारे यहां पर सारी जमीन अंसल एपीआई ने अधिग्रहित कर ली है। जमीन लेने के समय लखनऊ विकास प्राधिकरण और अंसल एपीआई ने यहाँ के किसानों को अच्छे मकान,अच्छी शिक्षा,बेहतर चिकित्सा व्यवस्था तरह तरह के सपने दिखाये, लेकिन जमीन लेने के बाद न तो विकास प्राधिकरण ने किसानों की तरफ पलट कर देखा और न ही बिल्डर ने ग्रामीणों को कोई सुविधा दी।”

ये भी पढ़ें- चौपाल लगाकर ग्रामीणों को कल्याणकारी योजनाओं की दी जानकारी

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top