मिस्ड कॉल कर सुन सकते हैं कहानियां 

Deepanshu MishraDeepanshu Mishra   2 Aug 2017 2:39 PM GMT

मिस्ड कॉल कर सुन सकते हैं कहानियां मिस्ड कॉल के जरिए कहानी की शुरुआत करते प्रथम बुक के मुख्य कार्यक्रम अधिकारी हिमांशु गिरि। 

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। एक समय था जब बच्चे दादी-नानी से कहानियां सुनते थे, लेकिन भागदौड़ भरी जिन्दगी में बच्चे कहनियों से दूर हो गए हैं, लेकिन अब एक मिस्ड कॉल करके कहानियां सुनीं जा सकती हैं। सीएसआर, रेडियो मिर्ची, वोडाफोन और प्रथम बुक संस्था की मदद से अपने फोन से एक मिस्ड कॉल के जरिए आप कहानी सुन सकते हैं।

लखनऊ के कानपुर रोड पर स्थित सिटी मान्टेसरी स्कूल में अपने इस मिस्ड कॉल के जरिए कहानी की शुरुआत करते हुए प्रथम बुक संस्था के मुख्य कार्यक्रम अधिकारी हिमांशु गिरि ने बताया, “पहले के समय में कहानियां सुनने के लिए दादी के पास चले जाते थे, लेकिन आजकल दादी भी वो नहीं हैं जो काफी अच्छी कहानियां सुनाती थीं, जिन्हें सुनते-सुनते हम सो भी जाते थे।

ये भी पढ़ें- घरेलू सिलेंडर पर 50 लाख तक का होता है बीमा, ऐसे जानिये सिलेंडर की एक्सपायरी डेट

इसलिए प्रथम बुक, सीएसआर, मिर्ची केयर और वोडाफोन की मदद से अपने फ़ोन से मिस्ड कॉल देकर कहानियां सुन सकते हैं।’’ उन्होंने आगे बताया, “यूके (यूनाइटेड किंगडम) में एक बच्चे के ऊपर छह किताबों का प्रयोग करते हैं, लेकिन भारत में 20 बच्चों के ऊपर एक किताब प्रयोग की जाती है। इससे अंदाजा लगाया जा सकते हैं कि देश में कितने बच्चे किताबों का प्रयोग करते हैं। पूरे देश में एक मिलियन मोबाइल कनेक्शन है, जिसका प्रयोग अब हम कहानी सुनने में भी कर सकते हैं।’’

कैसे सुन सकते हैं कहानी

अपने मोबाइल या फिर टेलीफ़ोन के द्वारा 8033094244 पर आप मिस्ड कॉल देंगे। मिस्ड कॉल देने के तुरंत बाद वहां से वापस फ़ोन आता है और आपको कहानी सुनाता है। एक व्यक्ति केवल एक कॉल पर दो कहानियां ही सुन सकता है। कहानियों को आप खुद से चुन नहीं सकते हैं जो भी कहानी वहां से सुनाई जाएंगी वही आपको सुननी होंगी।

मिस्ड कॉल के द्वारा आप 20 कहानियां हिंदी की और 20 कहानियां अंग्रेजी की सुन सकते हैं। कहानी सुनने के बाद आपके पास एक एसएमएस आता है जिसमें आपको बताया जाता है कि कौन सी कहानी आपने सुनी है इसके बाद उसी एसएमएस के नीचे एक लिंक दिया होता है, जिसे क्लिक करने के बाद आप उस कहानी को खरीद सकते हैं लेकिन इस कहानी खरीदने के आपको पैसे देने पड़ेंगे।

ये भी पढ़ें- संसद में पूछा गया, सफाई कर्मचारियों की सैलरी किसान की आमदनी से ज्यादा क्यों, सरकार ने दिया ये जवाब

हिमांशु गिरि ने आगे बताया, “इस प्रोजेक्ट के माध्यम से हम पांच लाख बच्चों तक पहुंचने का प्रयास करेंगे। ये कहानियां हम चार हफ्तों तक ही सुनाएंगे। उसके बाद हम अपना प्रोजेक्ट बंद कर देंगे। हमारा प्रोजेक्ट एक अगस्त से 30 अगस्त तक चलेगा, जिसमें मिस्ड कॉल के द्वारा कहानियां सुन सकते हैं। सबसे पहले हमारा ये प्रोजेक्ट राजस्थान से शुरू हुआ था ।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top