साक्षर भारत अभियान के तहत लोक शिक्षा केन्द्रों के माध्यम से पंचायतों में खोले जाएंगे पुस्तकालय  

साक्षर भारत अभियान के तहत लोक शिक्षा केन्द्रों के माध्यम से पंचायतों में खोले जाएंगे पुस्तकालय  प्रतीकात्मक फोटो

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

मेरठ। शिक्षा के साथ ज्ञान की ललक बढ़ाने के लिए अब गाँव-गाँव में पुस्तकालय खोलने की योजना पर प्रदेश सरकार ने कदम बढ़ा दिए हैं। ग्राम पंचायत स्तर पर पुस्तकालयों का संचालन लोक शिक्षा केन्द्र के माध्यम से किया जाएगा, जिसके बाद गाँव-गाँव में शिक्षा की अलख जगाने के लिए बेसिक शिक्षा विभाग जागरूकता अभियान चलाएगा। मेरठ में कुछ गाँवों में काम शुरू कर दिया गया है।

प्रदेश सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा की अलख जगाने के लिए साक्षर भारत अभियान के तहत पुस्तकालय योजना शुरू की है। योजना के तहत सभी ग्राम पंचायतों में लोक शिक्षा केन्द्र के माध्यम से पुस्तकालयों का संचालन किया जाएगा। लोक शिक्षा केन्द्र पर खोले जाने वाले पुस्तकालयों के लिए सरकार ने पुस्तकों के चयन के लिए कड़े मानक तय किए हैं। इसके लिए विशेष रूप से पुस्तक चयन समिति भी गठित की गई है।

ये भी पढ़ें- प्रदेश की लड़कियों को मुफ्त ग्रेजुएट कराएगी योगी सरकार

साथ ही नवंबर माह में हर हाल में पुस्तकालय शुरू कराने के निर्देश भी जारी किए हैं। योजना के तहत पुस्तकालय में उपलब्ध पुस्तक ग्रामीणों को नि:शुल्क रूप से उपलब्ध कराई जाएगी। पुस्तक में अक्षर ज्ञान कराने से लेकर कहानी, इतिहास, महाभारत, रामायण आदि के साथ विभिन्न विषयों की किताबें भी उपलब्ध कराई जाएंगी।

महिलाओं को दी जाएगी प्राथमिकता

लोक शिक्षा केन्द्र पर खोले जाने वाले पुस्तकालयों में महिलाओं के लिए विशेष व्यवस्था रहेगी। निरक्षर महिलाओं को पहले अक्षर ज्ञान कराया जाएगा। इसके बाद शिक्षा के प्रति प्रेरित करने के लिए ज्ञानवर्धक पुस्तक महिलाओं को दी जाएगी।

ये भी पढ़ें- हाइब्रिड सब्जियां उगाइए और अनुदान पाइए, उत्तर प्रदेश सरकार की नई पहल

जिले में शुरू हुए पुस्तकालय

साक्षर भारत अभियान के तहत शुरू किए जाने वाले पुस्ताकालयों का शुभारंभ जिले के गाँवों में हो चुका है। जिला लोक सेवा समिति के सचिव बीएसए सत्येन्द्र कुमार ने बताया कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में पहले से ही लोक शिक्षा केन्द्र संचालित हैं। सभी केन्द्रों पर पुस्तक उपलब्ध कराने के लिए किताबें भी आना शुरू हो गई हैं। मवाना, सरधना और सदर क्षेत्र के कई गाँवों में पुस्तकालय शुरू हो चुके हैं।

“ग्राम पंचायत स्तर पर संचालित लोक शिक्षा केन्द्र पर पुस्तकालय का संचालन शुरू कराया है। किताबों की आपूर्ति भी धीरे-धीरे शुरू हो रही है। पुस्तकालय के माध्यम से साक्षरता बढ़ाने के साथ ग्रामीण क्षेत्र में विभिन्न विषयों का ज्ञान बढ़ाने के लिए भी लोगों को प्रेरित किया जाएगा।”
सतेन्द्र कुमार, बेसिक शिक्षाधिकारी मेरठ

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top