स्वयं प्रोजेक्ट

मिलावटी दूध प्लांट पर छापेमारी, प्लांट सीज

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। इलाहाबाद में मिलावटी दूध प्लांट चलने की शिकायत मिलने पर सोमवार को खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने छापेमारी कि गई। टीम के पहुंचने से पहले ही प्लांट का सारा दूध सप्लाई के लिए भेज दिया गया है। टीम ने मौके पर मिले कुछ दूध का सैंपल लेकर लैब भेज दिया। वहीं प्लांट का लाइसेंस नहीं दिखा पाने पर प्लांट को सीज कर दिया गया।

नारीबारी स्थित मिल्क कलेक्शन सेंटर दुर्गा इंटरप्राइजेज पर छापेमारी की गई। छापे मारी दौरान प्लांट संचालक फूड लाइसेंस नहीं दिखा पाए, जिसके कारण डिओ शैलेन्द्र प्रताप सिंह ने अवैध रूप से चलाए जा रहे प्लांट अवैध सीज कर दिया। प्लांट में मिलावटी दूध की काम चल रहा था। प्लांट संचालक नवीन मिश्रा के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

ये भी पढ़ें : दूध उत्पादन के साथ मिलावट में भी आगे है यूपी, जानें कितना मिलावटी दूध पी रहे हैं आप

कुछ दिनों पहले संडीला में भी मिलावटी दूध बनाने के प्लांट सीज किया गया था। यह भी प्लांट नवीन मिश्रा का था। उसके बाद भी वहां पर लगातार सामान आ रहा है। जिसकी जानकारी वहां के डीओ सतीश शुक्ला जी को दी गई, लेकिन अभी उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की है।

ये भी पढ़ें- ये है गर्मियों में दूध उत्पादन बढ़ाने का रामबाण नुस्खा

खाद्य सुरक्षा औषधि प्रशासन उत्तर प्रदेश अपार आयुक्त रामराज मौर्या का कहना है, नवीन मिश्रा के खिलाफ मिलावटी दूध बनाने की शिकायत मिली थी, जिसके उपरांत पर छापेमारी की गई। दूध प्लांट में बना दूध सारा भेज दिया गया था। बचे हुए दूध के सैम्पल लेकर लैब में भेज दिए गए है। नवीन मिश्रा के खिलाफ नोटिस भी जारी कर दी गई है।” वहीं, इलाहाबाद के डिओ शैलेन्द्र यादव ने बताया, “ प्लांट को सीज कर दिया है। रिपोर्ट मिलने के बाद मुकदमा दर्ज किया जाएगा। शिकायत मिलने के बाद छापेमारी कि गई थी।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।