सख्त कदम-एएमयू में ड्रोन कैमरों से होती है निगरानी

Mo. AmilMo. Amil   26 Sep 2017 3:50 PM GMT

सख्त कदम-एएमयू में ड्रोन कैमरों से होती है निगरानीअराजकतत्वों से निपटने के लिए यहां ड्रोन कैमरों से भी निगरानी की जाती है।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

अलीगढ़। बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में छात्राओं के साथ छेड़छाड़ जैसा मामला अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में न हो इसके लिए यूनिवर्सिटी में गर्ल्स हॉस्टल की सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह से पुख्ता की गई है, गर्ल्स हॉस्टल ही नहीं बल्कि पूरा विश्वविद्यालय परिसर सीसीटीवी की नजर में रहता है, यही नहीं अराजकतत्वों से निपटने के लिए यहां ड्रोन कैमरों से भी निगरानी की जाती है।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में छात्राओं से छेड़छाड़ के मामले में यूनिवर्सिटी प्रशासन काफी सख्त रहता है। इसके लिए एएमयू प्रशासन ने सख्त इंतजाम किए हैं। एएमयू के गर्ल्स हॉस्टल में बगैर परमीशन कोई भी शख्स प्रवेश नहीं कर सकता। यहां प्रत्यके हॉस्टल व कैम्पस में सीसीटीवी कैमरों की निगरानी है। साथ ही ड्रोन कैमरों की भी मदद ली जाती है। एएमयू के अब्दुल्ला गर्ल्स कॉलेज की बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा माहिम जुबैरी बतातीं हैं, “यहां गर्ल्स हॉस्टल में कोई समस्या नहीं है। चारों तरफ सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं। हॉस्टल में कोई प्रवेश नहीं कर सकता। अगर हमारे पैरेंट्स हमसे मिलना चाहते हैं तो उन्हें दो दिन पहले एप्लीकेशन लगानी पड़ती है।”

ये भी पढ़ें- पढ़िए आज पूरे दिन में BHU में क्या-क्या हुआ

छेड़छाड़ के मामलों में की गई है सख्त कार्रवाई

केस-1

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में छात्राओं से छेड़छाड़ के मामलों में काफी सख्ती बरती जाती है। वर्ष 2013 में एएमयू के विधि विभाग में एलएलएम फर्स्ट ईयर की एक कश्मीरी छात्रा ने एएमयू के विभागाध्यक्ष पर अश्लील हरकत और छेड़छाड़ के गंभीर आरोप लगाए थे। तत्कालीन कार्यवाहक कुलपति प्रो. खालिद आजम ने मामला वीमेंस सेल के पास भेज दिया था। वीमेंस सेल के सामने छात्रा ने आपबीती सुनाई। देररात तक मीटिंग के बाद वीमेंस सेल ने अपनी सिफारिश कार्यवाहक कुलपति को सौंप दी थी।

केस-2

वर्ष 2014 में एएमयू से पीएचडी कर रही एक ईरानी छात्रा ने अपने ही प्रोफेसर पर छेड़खानी का आरोप लगाया था। छात्रा की शिकायत पर यूनिवर्सिटी ने कमेटी बनाकर जांच करवाई,।आरोप सही पाए जाने के बाद प्रोफेसर को सस्पेंड कर दिया गया था साथ ही एएमयू प्रशासन की ओर से आरोपों की पुष्टि होने के बाद सिविल लाइंस पुलिस स्टेशन में प्रोफेसर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गई थी।

ये भी पढ़ें- संवादहीनता और लापरवाही से सुलगा बीएचयू, कमिश्नर ने पीएमओ और सीएमओ को भेजी रिपोर्ट

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top