रोजगारपरक प्रशिक्षण के जरिए 70 लाख युवाओं को रोजगार देगी योगी सरकार

रोजगारपरक प्रशिक्षण के जरिए 70 लाख युवाओं को रोजगार देगी योगी सरकारप्रशिक्षणार्थियों को नियुक्ति पत्र देते सीएम योगी।

लखनऊ। प्रदेश सरकार अगले पांच साल में 70 लाख रोजगारों का सृजन करेगी। साथ ही रोजगारपरक प्रशिक्षणों के जरिये सेवायोजना की उम्र वाले सभी युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराए जाएंगे। ऐसे युवाओं की संख्या प्रदेश में कुल आबादी का 50 फीसदी है। ये बात शनिवार को सीएम योगी ने कही। वे केंद्र सरकार की कौशल विकास योजना के तहत आयोजित एक कार्यक्रम में राजधानी के गोमती नगर के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में संबोधित कर रहे थे। यहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई योजनाओं का उद्घाटन भी किया।

सीएम योगी की अध्यक्षता में राजस्थान स्पिनिंग मिल्स और भीलवाड़ा वीविंग मिल्स के बीच कौशल विकास को लेकर समझौता हुआ। समारोह के मुख्य कार्यक्रमों में कौशल विकास प्रदर्शनी के अतिरिक्त नवनिर्मित 97 आईटीआई का लोकार्पण किया गया व 1100 प्रशिक्षणार्थियों को नियुक्ति पत्र भी बांटे गए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, 'प्रदेश की लगभग 23 करोड़ की कुल जनसंख्या में आधे से अधिक आबादी उन युवाओं की है जो सेवायोजना के लिए निर्धरित आयु सीमा के अर्न्तगत है। ऐसे सभी युवाओं को रोजगार की देने का प्रयास किया जाएगा।'

संबंधित खबर : छात्रों को रोजगार परक प्रशिक्षण देगा स्काउट व गाइड

अपनी बात जारी रखते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा, सबका साथ, सबका विकास उनकी सरकार का संकल्प है, हमने 5 वर्ष में 70 लाख व्यक्तियों को रोजगार देने का लक्ष्य रखा है, जिसमें से 10 लाख लोगों को रोजगार व्यावसायिक शिक्षा एवं विकास विभाग के माध्यम से देंगे।

उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि, 'माध्यमिक शिक्षा और उच्च शिक्षा को कौशल से भी जोड़ने का काम किया जाएगा। 22 करोड़ की आबादी में 63 फीसदी 14 से 27 साल के युवा हैं। इन्हें नौकरी के मौके उपलब्ध कराना योगी सरकार की प्राथमिकता है। सभी कम्पनी की ये जिम्मेदारी है कि प्रशिक्षण के साथ-साथ रोजगार भी उपलब्ध कराएं

ये भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश : जितना देंगे रोजगार, उतना ज्यादा मिलेगा उद्वोगपतियों को लाभ

व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री चेतन चौहान ने कहा, 'व्यावसायिक शिक्षा विभाग आईटीआई से प्रशिक्षित 10 हजार युवाओं को हर साल नौकरी देगा। उन्होंने रोजगार पाने के लिए बनाए गए पोर्टल में 42 लाख युवाओं ने नौकरी पाने के लिए रजिस्ट्रेशन करा रखा है।' वहीं, मड़ियाव कि रहने वाली पूनम राजपूत 23 वर्ष बताती हैं, हमने कौशल विकास सेन्टर से नर्सिंग का कोर्स किया था। अब मैं 6000 रुपए कि नौकरी कर रही हूं। इस पढ़ाई में मेरा कोई भी पैसा खर्च नहीं हुआ है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top