तो योगी सरकार में बटेंगे अखिलेश की फोटो वाले स्कूल बैग ?

मगर प्रदेश में बीते 15 महीनों से भाजपा गठबंधन की सरकार है और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं, लेकिन बैग पर फोटो पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का है।

तो योगी सरकार में बटेंगे अखिलेश की फोटो वाले स्कूल बैग ?

कन्नौज। उत्तर प्रदेश में सपा की सरकार को रुख्सत हुए करीब 15 महीने हो गए हैं, लेकिन बड़ी संख्या में अखिलेश सरकार के स्कूली बैग अब भी ब्लॉक संसाधन केंद्रों पर रखे हुए हैं और अब भाजपा सरकार में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की फोटो लगे बैग बांटने की तैयारी है।

गाँव कनेक्शन टीम शनिवार को बीआरसी कन्नौज पहुंची। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 150 किमी दूर इस ब्लॉक संसाधन केंद्र पर सैकड़ों की संख्या में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की फोटो लगे बैग के बंडल सुरक्षित रखे हैं। कक्षा एक से आठ तक के बच्चों को परिषदीय स्कूलों में यह बैग नि:शुल्क दिए जाते हैं।

मगर प्रदेश में बीते 15 महीनों से भाजपा गठबंधन की सरकार है और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं, लेकिन बैग पर फोटो पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का है। वहीं, गर्मी की छुट्टियों के बाद दो जुलाई से शैक्षिक सत्र शुरू होने वाले हैं। ऐसे में इन स्कूल बैग को बांटे जाने पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं।


यहां पर एक कक्ष में पुस्तकें रखी थीं, जो किसी बीआरसी पर भेजी जाने के लिए लोडर पर रखी जा रही थीं। उसी कक्ष में कई बैग के बंडल भी रखे थे। इन बंडलों को गौर से देखा गया तो उनमें भरे स्कूली बैग में सपा मुखिया अखिलेश यादव की फोटो लगी थी। ऊपर उत्तर प्रदेश शासन की मुहर भी लगी थी। साथ ही 'खूब पढ़ो खूब बढ़ो' के अलावा उम्मीदों का प्रदेश उत्तर प्रदेश भी लिखा था जो पिछली सरकार का स्लोगन है।

यह भी पढ़ें: ग्रामीण विकास की हकीकत: बंद कमरों में होती है खुली बैठक

किताबें रखवा रहे एक कर्मचारी से जब बैग के बाबत पूछा गया तो जवाब मिला, मुझे किताबों की देखरेख और भिजवाने का जिम्मा मिला है, इन बैग के बारे में मुझे कुछ नहीं पता। वहीं, एबीआरसी प्रसेनजीत वैस ने बताया, "बैग आ चुके हैं। रखे हुए हैं, जल्द ही उनका वितरण किया जाएगा। वितरण दो जुलाई से स्कूल खुलने के बाद किया जाएगा।"

दूसरी ओर बीएसए विभाग के बाबू शैलेंद्र कुमार यादव बताते हैं, "जिले में ब्लॉकों की मांग के अनुसार 54 हजार बैग आ चुके हैं। इनका वितरण सभी बच्चों को नहीं किया जाएगा। जो बच्चे नए नामांकित हैं, उनको लाभ दिया जाएगा। कक्षा एक और छह में नए बच्चे अधिक आते हैं।"

वहीं, प्रभारी बीएसए अरविंद कुशवाहा 'गाँव कनेक्शन' से फोन पर बताते हैं, "अखिलेश सरकार के समय के कई बैग रखे हुए हैं। नये शैक्षिक सत्र में बच्चों को इन स्कूली बैग को बांटे जाने को लेकर उच्चाधिकारियों से संपर्क किया गया है, और उनके आदेश के अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।"

यह भी पढ़ें: स्कूल को हरा-भरा रखने के लिए बच्चों ने छुट्टियों को कर दिया पेड़-पौधों के नाम

यह भी पढ़ें: अगर हर अध्यापक ऐसा कदम उठाए तो बदल सकती हैं सरकारी स्कूलों की तस्वीर


Share it
Share it
Share it
Top