दिव्यांग छात्रों को मिलेगी मुफ्त आवासीय शिक्षा, कन्नौज, औरैया और इलाहाबाद में जल्द शुरू होंगे विशेष स्कूल

प्रदेश के कन्नौज, औरैया और इलाहाबाद में समेकित विशेष माध्यमिक विद्यालय जल्द शुरू होंगे। कक्षा छह से इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई दिव्यांगों के लिए पूरी तरह से निशुल्क होगी। साथ ही रहने और खाने की भी सुविधा मिलेगी।

Ajay MishraAjay Mishra   22 Sep 2018 1:29 PM GMT

दिव्यांग छात्रों को मिलेगी मुफ्त आवासीय शिक्षा, कन्नौज, औरैया और इलाहाबाद में जल्द शुरू होंगे विशेष स्कूलनिर्माणाधीन भवन का निरीक्षण करने पहुंचे अधिकारी।

कन्नौज। प्रदेश के कन्नौज, औरैया और इलाहाबाद में समेकित विशेष माध्यमिक विद्यालय जल्द शुरू होंगे। कक्षा छह से इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई दिव्यांगों के लिए पूरी तरह से निशुल्क होगी। साथ ही रहने और खाने की भी सुविधा मिलेगी।

योजना के बाबत कन्नौज के जिला दिव्यांग जन सशक्तीकरण अधिकारी तनुज त्रिपाठी बताते हैं, ''सूबे में जब इलाहाबाद, औरैया को दिव्यांगों के लिए स्कूल बनवाने का आदेश हुआ था, उसी समय कन्नौज को भी सौगात मिली थी। औरैया के स्कूल का भवन बनकर तैयार हो चुका है, सिर्फ हैंडओवर होना है। कन्नौज में भी करीब 70 फीसदी निर्माण कार्य हो गया है।''

खुद की पढ़ाई के साथ ही अपने घर वालों को भी पढ़ाते हैं ये 'नन्हे शिक्षक'


उन्होंने आगे बताया, ''चार मार्च 2014 को कन्नौज में निर्माण कार्य शुरू हुआ था। करीब 17 करोड़ रुपए के बजट से बनने वाले दिव्यांगों के स्कूल के लिए करीब 16 करोड़ रुपए कन्नौज को मिल भी चुका है। 31 अक्टूबर 2018 तक निर्माण कार्य पूरा होना है। अगले सत्र से शिक्षण कार्य शुरू हो जाएगा। यहां कक्षा छह से 12 तक के बच्चों को आवासीय शिक्षा दी जाएगी। रहने, खाने-पीने और पढ़ाई की व्यवस्था पूरी तरह फ्री रहेगी। कन्नौज में अभी तक सिर्फ कक्षा आठ तक ही स्कूल चल रहा है।''

पहले साल सौ छात्रों के रहने की व्यवस्था

जिला दिव्यांग जन सशक्तीकरण अधिकारी तनुज त्रिपाठी ने बताया कि ''पहले साल 100 छात्र-छात्राओं के रहने की व्यवस्था होगी। जो लोग नहीं रहना चाहते हैं, उनके भी प्रवेश लिए जाएंगे। आगे चलकर 280 सीटों पर दिव्यांग बच्चों के प्रवेश होंगे। अस्थिबाधित, श्रवणबाधित और दृश्टिबाधित श्रेणी के लोग योजना का लाभ उठा सकते हैं।''

विद्यालय प्रबंध समिति की कोशिशों से स्कूलों में आया बदलाव


मार्ग बनाने की चल रही तैयारी

स्कूल पहुंचने के लिए कोई संपर्क मार्ग नहीं है। फिलहाल किसी के ईंट-भट्टे से गुजरकर अफसर आदि पहुंचते हैं। जब स्कूल शुरू हो जाएगा तो मुसीबतें बढ़ जाएंगी। जिला दिव्यांग जन सशक्तीकरण अधिकारी तनुज त्रिपाठी ने बताया कि करीब 50 लाख रूपए मार्ग बनवाने में खर्च होगा। इसको लेकर उच्चाधिकारियों से पत्राचार किया गया है। जिले के अधिकारियों को भी सूचना दे दी गई है। कन्नौज का स्कूल भवन उत्तर प्रदेश समाज कल्याण निर्माण निगम जिले के छिबरामऊ तहसील क्षेत्र के सरायसुंदर में बनवा रहा है।

इस स्कूल में पड़ोस के गांव से भी पढ़ने आते हैं बच्चे


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top