जज्बे को सलाम: दिव्यांग युवक खेती से जीवन में ला रहा खुशहाली

जज्बे को सलाम: दिव्यांग युवक खेती से जीवन में ला रहा खुशहालीखेत में काम करता कुलदीप।

कुछ करने का जज्बा हो तो सौ बाधाएं भी बौनी साबित हो जाती हैं। विश्वास और हौसलों की उड़ान दम भरती हो तो शारीरिक दुर्बलता ही सफलता में बदल जाया करती है। जी हां, कुछ इसी तरह का कारनामा दिखा रहा है जिले का दिव्यांग युवक, जो दिव्यांग होते हुए खेती कर अपने परिवार का भरण पोषण कर रहा है।

ये भी पढ़ें- इनके हौसले को सलाम करिये, 10 वर्षों से बिस्तर पर लेटे-लेटे बच्चों को दे रही हैं शिक्षा

लखनऊ से करीब 150 किमी दूर कन्नौज जिले के उदैतापुर के मजरा कपूरापुर निवासी कुलदीप (30वर्ष) बताते हैं, ‘‘मैं हाईस्कूल पास हूं। दोनों पैर खराब हैं। खेतों पर जाने के लिए बैसाखी और दूर जाने के लिए ट्राईसाइकिल का सहारा लेता हूं। मेरे पिताजी बताते हैं कि जब मैं करीब एक साल का था तो पोलियो हो गया था। इलाज कराया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।’’

कुलदीप आगे बताते हैं, ‘‘घर के पूरे खर्च की जिम्मेदारी मैं खुद ही उठाता हूं। यह सब खेत में काम करने के बाद ही हो पाता है। बड़े भाई संदीप अपने परिवार के साथ दिल्ली रहते हैं। एक बहन की शादी हो चुकी है। दूसरी बहन की षादी मुझे और करनी है।’’

ये भी पढ़ें- इनके हौसले को सलाम करिए, लेटे-लेटे पूरी की बीसीए की पढ़ाई, अब है एमबीए की तैयारी

कुलदीप के पिता अजब सिंह कटियार (62वर्ष) बताते हैं, ‘‘मैं बीमार रहता हूं। अब काम नहीं होता है। अस्थमा से परेशान हूं। बड़ा बेटा बाहर रहता है। कुलदीप पर ही पूरे परिवार की जिम्मेदारी है।’’

ये भी पढ़ें- मिलिए भारत के पहले दिव्यांग डीजे वरुण खुल्लर से...इनकी कहानी सुनकर आप भी कहेंगे वाह ! 

जिला कृषि अधिकारी अभिनंदन सिंह यादव बताते हैं, ‘‘दिव्यांग किसान के लिए हम प्रयास करेंगे जो भी सुविधाएं होंगी वह अधिक से अधिक दिलाई जाएंगी। उसमें साहस है इसके साथ ही और लेागों के लिए भी प्ररेणा है।”

ये भी पढ़ें- गोपाल खण्डेलवाल, 18 वर्षों से व्हीलचेयर पर बैठकर हजारों बच्चों को दे चुके मुफ्त में शिक्षा

ये भी पढ़ें- एक लड़की को बचाने के लिए इस दिव्यांग ने नदी में लगा दी छलांग 

Share it
Top