तीन महीने से 35 लाख किसानों और बुजुर्गों को 43 करोड़ रुपये की पेंशन का इंतजार

तीन महीने से 35 लाख किसानों और बुजुर्गों को 43 करोड़ रुपये की पेंशन का इंतजारपेंशन के इंतजार में बुजुर्ग और किसान।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के करीब 35 लाख किसानों और बुजुर्गों को पिछले तीन महीने से 43 करोड़ रुपये की वृद्धावस्था और किसान पेंशन का इंतजार है। अब तक विभागीय खींचतान के चलते ये पेंशन जरूरतमंदों के खातों में नहीं पहुंची है। अब सरकार को जब अनेक शिकायतें मिली हैं तब इस पेंशन को जल्द जारी करने की हिदायत दी गई है। समाज कल्याण विभाग के मंत्री रमापति राम शास्त्री की सख्ती के बाद अब फाइलों का आनलाइन सत्यापन तेज किया गया है। सरकार का दावा है कि बहुत जल्द ही ये धनराशि किसानों और बुजुर्गों को मिलेगी।

बुजुर्ग और किसान जिनकी आयु 60 साल से अधिक है, उनको पिछली सरकार के समय में 500 रुपये प्रति माह पेंशन अपने निजी खर्च के लिए दी जाती थी। अब इस सरकार में इस धनराशि को बढ़ा कर एक हजार रुपए प्रति माह कर दिया गया है। मगर पिछले तीन महीने से इसी बदलाव के चलते पेंशन लाभार्थियों के खातों में नहीं पहुंची थी। इस वजह से परेशानी बनी हुई थी।

ये भी पढ़ें- संसद में पूछा गया, सफाई कर्मचारियों की सैलरी किसान की आमदनी से ज्यादा क्यों, सरकार ने दिया ये जवाब

गांव बारी केराकत जाैनपुर के रहने वाले बुजुर्ग वेदाराम मिश्रा कहते हैं कि कई बार विभाग के चक्कर काट चुके हैं, मगर उनकी सुनवाई नहीं हो रही है। बड़ी खुशी थी कि उनको महीने में दोगुनी पेंशन मिलेगी, मगर इस साल तो की पहली तिमाही में खाता खाली रहा है। लखनऊ के मख्दूमपुर गांव के बृजेश यादव बताते हैं कि वृद्धावस्था पेंशन का बहुत सहारा होता है। मगर सरकारीकरण के जाल में अब तक पेंशन नहीं आ सकी है। जिससे व्यक्तिगत रूप से अपने खर्च चलाने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मलिहाबाद के गांव इमहलिया की रामरती देवी का भी यही कहना है, उनको भी अब तक इस वित्तीय वर्ष में पेंशन नहीं मिली है।

सरकार का दावा, जल्द मिलेगी पेंशन

प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री ने बताया कि वृद्धावस्था और किसान पेशन योजना के अन्तर्गत चालू वित्तीय वर्ष (2017-18) में कुल 35,86,840 लाभार्थियों की प्रथम अप्रैल, 2017 से जून, 2017 तक की पेंशन की धनराशि रुपए 43817.799 लाख लाभार्थी के बैंक खातों में स्थानान्तरित करने के लिए पीएफएमएस पोर्टल से सत्यापित फाइलों को कोषागार जवाहर भवनए लखनऊ को बढ़ा दिया गया है।

शीघ्र ही पेंशन की धनराशि सम्बन्धित पेंशनरों के बैंक खातों में पहुंच जाएगी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017.18 में कराये गये सत्यापन में लगभग 1,70,000 लाभार्थी मृतक पाये गये हैं। उनके स्थान पर नवीन लाभार्थियों के चयन की कार्यवाही की जा रही है। प्रमुख सचिव समाज कल्याण मनोज सिंह ने बताया किए पेंशन को लेकर बहुत तेजी से काम किया जा रहा हैए अगले कुछ दिनों में सभी लाभार्थियों को पेंशन मिल जाएगी।

ये जरूर पढ़ें- किसान का दर्द : “आमदनी छोड़िए, लागत निकालना मुश्किल”

प्रमुख जिलों में लाभार्थियों की संख्या

वृद्धावस्था किसान पेंशन योजनान्तर्गत लाभान्वित लाभार्थियों में आगरा के 36461 लाभार्थियों को धनराशि रुपए 4.41करोड़, फिरोजाबाद के 21386 लाभार्थियों को धनराशि रुपए 2.58करोड़, मैनपुरी के 75707 लाभार्थियों को 9.19करोड़, जनपद मथुरा के 52674 लाभार्थियों को 6,40करोड़, अलीगढ़ के 41083 लाभार्थियों को 4.98करोड़, एटा़ के 21713 लाभार्थियों को 2.65 करोड़, जनपद हाथरस के 16662 लाभार्थियों को 2.016 करोड़, कांसगज के 10806 लाभार्थियों को 1.32 करोड़, इलाहाबाद के 111955 लाभार्थियों को 14 करोड़ दी जानी है।

इसी तरह से फतेहपुर के 36262 लाभार्थियों को धनराशि 4.47 करोड़, जनपद कौशाम्बी के 49278 लाभार्थियों को धनराशि 6.15 करोड़, जनपद प्रतापगढ़़ के 71923 लाभार्थियों को 8.67 करोड़, जनपद आजमगढ़ के 38853 लाभार्थियों को 4.78 करोड़, बलिया के 51382 लाभार्थियों को धनराशि 6.26 करोड़, मऊ के 36834 लाभार्थियों को 4.51 करोड़, बरेली के 58214 लाभार्थियों को धनराशि 7 करोड़ मिलने हैं। बदांयू़ के 52722 लाभार्थियों को 6.37 करोड़, जनपद पीलीभीत के 31528 लाभार्थियों को धनराशि 3.82 करोड़, शाहजहांपुर के 84411 लाभार्थियों को 12.43 करोड़, बस्ती के 61899 लाभार्थियों को 7.65 करोड़, संत कबीर नगऱ के 57361 लाभार्थियों को धनराशि 7.10 करोड़ रुपये दिये जाने हैं।

ये भी पढ़ें - क्या किसान आक्रोश की गूंज 2019 लोकसभा चुनाव में सुनाई देगी ?

Share it
Top