गाँव कनेक्शन की मुहिम: उत्तर प्रदेश के 25 जिलों में ग्रामीण महिलाओं ने माहवारी दिवस पर तोड़ी चुप्पी

गाँव कनेक्शन की मुहिम: उत्तर प्रदेश के 25 जिलों में ग्रामीण महिलाओं ने माहवारी दिवस पर तोड़ी चुप्पीउन दिनों पर महिलाओं ने की खुलकर बात।

गाँव कनेक्शन के पांच वर्ष पूरे होने पर हम आपके लिए उन खबरों को दोबारा पोस्ट कर रहे हैं जिनका सरोकार सीधे आप से रहा है। जिन खबरों ने समाज की आवाज बुलंद की, जिसने हमें सोचने मजबूर किया। उन चित्रों को भी हम शेयर करेंगे जो आपको कुछ कहने और सोचने पर मजबूर कर देंगे।

हम सिर्फ गाँवों की समस्याओं को ही नहीं लिखते बल्कि उन मुद्दों पर भी चर्चा करते हैं जिस पर आमतौर पर लोग बात करने से कतराते हैं। इस वर्ष 28 मई को उत्तर प्रेदश के 25 जिलों में हजारों महिलाओं और किशोरियों के बीच माहवारी दिवस पर चर्चा की गयी।

लखनऊ के एक गाँव में डॉ प्रगति सिंह ने महिलाओं से कहा, ‘उन दिनों रोटी बनाना अछूत नहीं होता’

ये भी पढ़ें- गांव कनेक्शन : ईमानदारी की पत्रकारिता के पांच साल

महिलाओं की ज़िंदगी से जुड़ा अहम मुद्दा, जिस पर खुल कर बात ही नहीं होती। बड़े शहरों में हालात जरूर थोड़े बदले हैं लेकिन गांव और कस्बों में अभी ये चुप्पी का मुद्दा है, शर्म और संकोच से जोड़ कर देखा जाता है। गाँव की महिलाएं न घर में बात कर पाती हैं, न ही अपनी बेटियों को इस बारे विस्तार से बता पाती हैं, जिस कारण गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाती हैं। आप को जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ साफ सफाई के अभाव में ही एक चौथाई महिलाओं को यूरिन और फंगल इंफेक्शन हो जाता है।

ये भी पढ़ें- नेकी कर अख़बार में डाल : दिनेश शर्मा

रायबरेली में आरती सिंह महिलाओं और किशोरियों को पैड इस्तेमाल और निस्तारण के बारे में बताते हुए

गाँव कनेक्शन फाउंडेशन ने 'विश्व माहवारी दिवस' के अवसर पर ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं में माहवारी को लेकर उन मिथकों को दूर करने का प्रयास किया जिसको लेकर वो कभी बात नहीं करतीं थीं। स्त्री रोग विशेषज्ञ की मदद से इन्हें न सिर्फ कई तरह की जानकारियां दी गयीं बल्कि सेनेटरी पैड भी डिस्ट्रीब्यूट कलिया गये। पैड का इस्तेमाल और निस्तारण कैसे करना है इस पर भी इन्हें जानकारी दी गयी।

ये भी पढ़ें- ग्रामीण भारत की धड़कन बनता गाँव कनेक्शन : अरविंद कुमार सिंह

शाहजहांपुर में माहवारी दिवस पर साफ़-सफाई पर हुई चर्चा

इस खास मुहिम के बाद सिद्धार्थनगर के भरौली गाँव की कम्यूनिटी जर्नलिस्ट त्रिशला पाठक बताती हैं कि अब माहवारी को लेकर हमारे यहां की महिलाओं की सोच में काफी बदल गई है। इस अभियान का हिस्सा बनने के बाद त्रिशला अपने गाँव की महिलाओं को जागरूक करने लगी हैं। शुरुआती दौर में सब इनका मजाक बनाते थे लेकिन अब इनके प्रयासों की सभी सराहना करते हैं।

ये भी पढ़ें- पढ़िए रामनाथ गोयनका अवार्ड से सम्मानित स्टोरी : तीन लड़कियां

कन्नौज जिले में माहवारी के हो रही चर्चा को ध्यान से सुनती छात्राएं
कानपुर देहात में सैकड़ों की संख्या में माहवारी दिवस पर महिलाओं ने लिया हिस्सा
उन्नाव जिले में माहवारी पर डाक्टरों ने दी सलाह
बहराइच जिले में महिलाओं ने जाना कि उन दिनों साफ़-सफाई न रखने से कौन-कौन सी बीमारी हो जाती है
बनारस में डॉ को अपनी परेशानी बताती महिला
लखनऊ के चिनहट ब्लॉक में माहवारी दिवस पर हुई खास बातचीत

ये भी पढ़ें- पत्रकारिता के जरिए गांव को सामने ला रहा है ‘गांव कनेक्शन’ : पंकज त्रिपाठी

गाजियाबाद में कॉलेज के बाहर लड़कियों ने इस मुहीम में लिया हिस्सा
कानपुर नगर में किशोरियों को दिए गये सेनेटरी पैड
एटा जिले में किशोरियों को दिए गये सेनेटरी पैड

ये खबर मूल रूप से (28 मई 2016) को साप्ताहिक गाँव कनेक्शन में प्रकाशित हुई थी।

First Published: 2018-02-09 16:24:02.0

Share it
Share it
Share it
Top