Read latest updates about "स्वच्छता कनेक्शन" - Page 1

  • गांव को 'खुले में शौच मुक्त' करने के लिए इस युवा ने उठाया ये कदम

    जौनपुर। जहां सोच वहां शौचालय। इस बात को साबित किया है नेवादा काजी के युवा प्रधान ने। प्रधान के अथक प्रयास से पूरा गांव खुले में शौच मुक्त हो चुका है। गांव के विकास के लिए इस युवा प्रधान ने अपनी अच्छी खासी नौकरी भी छोड़ दी। विकास खंड बक्सा के गांव नेवादा काजी के युवा प्रधान अमित सिंह ने बताया, '...

  • दिव्यांग बेटी के लिए मां ने पाई-पाई जोड़ तीन साल में बनवाया शौचालय

    लखनऊ। किसी मां के लिए शायद इससे बड़ा दुख कुछ नहीं होगा कि उसकी बेटी घिसट-घिसट के चलती हो और उसे हर काम के लिए किसी और का सहारा लेना पड़ता हो। शौच के लिए भी उसे अपने मां के कंधों पर बैठ कर खेतों में जाना पड़ता हो। अपनी बेटी के इस दुख को देखते हुए उस मां ने एक नजीर पेश की जो अपने आप में मिसाल है। ...

  • खुले में शौच नहीं जाना चाहती थी चमेली, सरकारी मदद का इंतजार किए बिना बनाया कपड़े का शौचालय

    चिरैया (बलरामपुर)। अशिक्षा के अंधकार में जी रही चमेली की दुनिया बहुत छोटी थी। खेतों में काम करना, घर में रोटी बनाना और गाँव की एक साधारण महिला की तरह ज़िंदगी जीना। लेकिन एक दिन महिलाओं की मीटिंग से वापस आते समय उसका मन बहुत बेचैन था। चमेली के मन में यह बेचैनी अनायास ही नहीं थी, बल्कि उसे समझ आ गया...

  • जहां नहीं पहुंची बिजली वहां पहुंचा शौचालय

    लखनऊ। कहते हैं अगर मन में कुछ करने का जज्बा हो तो कोई भी काम आसान हो जाता है। यह बात सुरसती पर बिल्कुल सटीक बैठतीहै जिसने उस गाँव में लोगों को शौचालय के लिए प्रेरित किया जहां बिजली-पानी जैसी बुनियादी जरूरतें भी पूरी नहीं थीं।सुरसती सोनभद्र जिले के नगवा ब्लॉक में स्थित गाँव गोंगा की निवासी हैं। इस...

  • छात्रों ने सीखा स्वच्छता का पाठ तो मिला स्कूल को पुरस्कार

    लखनऊ। स्वच्छ भारत अभियान के तहत बच्चों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने और नियम से प्रतिदिन उनका पालन करने को बढ़ावा देने के लिए चित्रकूट जिले के एक स्कूल को स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।चित्रकूट जिले स्थित मानिकपुर ब्लॉक के 'पूर्व माध्यमिक विद्यालय सरईया- भाग एक' को इस पुरस्कार...

  • शौचालय न होने पर पत्नी के साथ ससुराल जाना छोड़ा

    लखनऊ। स्वच्छाग्रही रामकुमार को जब मालूम चला कि उनके ससुराल में शौचालय नहीं है और लोग खुले में शौच के लिए जाते हैं तो ससुराल में शौचालय न बनने तक रामकुमार ने अपनी पत्नी के साथ ससुराल जाना छोड़ दिया।स्वच्छाग्रही रामकुमार लखीमपुर खीरी जिले के बांकेगंज ब्लॉक के रहने वाले हैं। रामकुमार...

  • सफाई के शपथ के साथ शुरू की स्वच्छता की मुहिम

    लखनऊ। इस युवा ने जब गंदगी से स्कूल के बच्चों को बीमार होते हुए खुद देखा तो वे न सिर्फ स्वच्छता मिशन से जुड़े, बल्कि लोगों को सफाई की शपथ दिलाने के साथ स्वच्छता मुहिम की शुरुआत भी की।देश में सरकार द्वारा चलाए जा रहे स्वच्छ भारत अभियान के तहत बहुत से लोग अपनी भूमिका निभा रहे हैं, उनमें से ही एक हैं...

  • स्वच्छाग्रही बन उठाई खुले में शौच के खिलाफ आवाज

    लखनऊ। खुले में शौच के खिलाफ आवाज उठाकर गाँव के इस युवा ने न सिर्फ अपने गाँव को सबसे पहले खुले में शौच मुक्त किया, बल्कि स्वच्छाग्रही बन अब तक कई गाँवों में एक हजार से ज्यादा शौचालयों का निर्माण कर चुके हैं। दुर्गेश सिंह (29 वर्ष) सीतापुर जिला स्थित कसमण्डा ब्लॉक के गाँव मोहत्तेपुर के रहने वाले...

Share it
Top