Read latest updates about "बहराइच" - Page 1

  • डिजिटल इंडिया : इंटरनेट से ग्रामीण महिलाएं सीख रहीं लजीज़ खाना बनाना

    स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कबहराइच। इंटरनेट के दौर में शहर ही नहीं गाँव की महिलाएं भी आगे आ रही है। ग्रामीण महिलाएं भी इंटरनेट के जरिये बहुत सी ऐसी बातें सीख रही है जिसके बारे में गाँव में भी लोगों को नहीं पता था। बहराइच से लगभग 35 किलोमीटर दूर स्थित महसी ब्लॉक की रहने वाली रामपती (30 वर्ष) ने बताया, 'सब...

  • घाघरा की कटान में बहे घर, पानी के बीच झोपड़ी में गुजर-बसर कर रहे लोग

    बहराइच। “पंछी का घोंसला टूट जाए तो उसको कितना दर्द होता है, मेरा घर तो तीन बार घाघरा के कटान में चला गया। सब कुछ बह गया, क्या करें, कहां जाएं समझ नहीं आता। अपनी जमीन जननी की तरह है इसलिए छोड़ें किस तरह।”घाघरा नदी में पिछले दिनों आई बाढ़ में अपना घर खोने के बाद यह दर्द बयां किया है, बहराइच जिला...

  • बारिश ने खोली बहराइच जिला अस्पताल और नगर पालिका की पोल

    अंवकित श्रीवास्तव, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्टबहराइच। रुक-रुककर हो रही बारिश से शहर में जगह-जगह जलभराव होने लगा है। जिला अस्पताल समेत कयी सरकारी कार्यालयों व सड़कों पर लगे पानी से नगर पालिका की बरसात पूर्व तैयारियों की पोल भी खुल गई है। जलभराव से शहरवासियों की भी मुश्किलें बढ़ गयी हैं। जिला अस्पताल...

  • स्कूल में नहीं पानी, ढाई वर्ष से खराब पड़ा हैंडपंप

    प्रशांत श्रीवास्तव ,स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कबहराइच। एक तरफ राज्य सरकार प्राथमिक और पूर्व माध्यमिक विद्यालयों की शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए बॉयोमैट्रिक, ड्रेस कोड, छात्रवृति जैसी नयी योजनाओं को लागू करने पर विचार कर रही है। वहीं जिले में अध्यापकों और बच्चों को इस गर्मी में पीने के लिए पानी भी नहीं...

  • क्या अब दूर होंगी की समस्याएं?

    प्रशांत श्रीवास्तव, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कबहराईच। विधानसभा के गठन में जिले के दो चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह मिली है, जिससे तीन लाख से ज्यादा की जनसंख्या वाले इस सीमावर्ती जनपद के लोगों में खासा उम्मीद जगी है।चुनाव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप49.63...

  • बहराइच में सात में से 6 सीटों पर भाजपा का कब्जा

    बहराइच। जनपद बहराइच में आज बहराइच सदर से बीजेपी प्रत्याशी श्रीमती अनुपमा जैसवाल के विजय की खबर मिलते ही समर्थकों ने अलग-अलग तरीकों से जश्न मनाया। कहीं मिठाई खिलाई गई तो नारे भी लगे। वहीं अग्रसेन चौक पर बीजेपी समर्थकों ने बीच रोड पर साइकिल जला कर मनाया जीत का जश्न मनाया और हर-हर मोदी और अखिलेश तेरी...

  • बहराइचः बसअड्डे के निर्माण में अतिक्रमण बना रोड़ा

    स्वयं प्रोजक्ट डेस्कबहराइच। बस अड्डे की हालत देखकर अब तक उधर जाने का मन भी नहीं करता था, आजादी के बाद पहली बार अब बस अड्डे का निर्माण शुरू हो गया है तो जाम और अतिक्रमण उसके बीच आ रहा है।बहराइच बस अड्डे का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। निर्माण कार्य शुरू हुए एक साल हो गये हैं, लेकिन काम अभी रफ़्तार...

  • ‘साक्षरता को आगे बढ़ाएंगे, अंगूठा नहीं लगाएंगे’

    प्रशांत श्रीवास्तव, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्कबहराइच। ‘साक्षरता को आगे बढ़ाएंगे, अंगूठा नहीं लगाएंगे’ का स्लोगन लिखी तख्तियां और सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण महिलाओं की मौजूदगी में महिला दिवस पर रैली निकाली गई और महिलाओं को साक्षरता के प्रति जागरूक किया गया।देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां...

  • अस्पताल में शौचालय न होने से खेतों में जाने को मजबूर मरीज और तीमारदार

    रोहित श्रीवास्तव, स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्टबहराइच। एक ओर जहां केंद्र और राज्य सरकार स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी की तस्वीरें पेश कर रही हैं, वहीं पीएचसी खुटेहना में मरीजों को आम सुविधाएं तक नहीं मिल रही हैं। पीएचसी में न पानी की व्यवस्था है और न ही शौचालय की। ऐसे में न सिर्फ मरीज, बल्कि तीमारदार भी...

  • बालश्रम की भेंट चढ़ रहा बचपन

    गाँव कनेक्शन संवाददाताबहराइच। प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन भले ही बालश्रम रोकने के लिए तमाम दावे करता हो, लेकिन इन तस्वीरों को ज़रा गौर से देखिए। कहते हैं तस्वीरे झूठ नहीं बोलतीं। बहराइच में कूड़े के ढेर में बचपन सिसक रहा है। यही नहीं दो जून की रोटी के लिए कड़ी मशक्कत करनी वाले इन बच्चों का कोई सहारा...

  • स्वास्थ्य केंद्रों में लटके हैं ताले, कहां जाएं ग्रामीण

    शुभम शंकर मिश्रा, स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्टबहराईच। जिले के फखरपुर ब्लॉक में गाँवों की स्वास्थ्य सेवाएं लचर होती जा रही हैं। ग्रामीणों को इलाज के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है, मगर उन्हें अपने गाँव में इलाज नहीं मिल रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि स्वास्थ्य विभाग ने गाँवों में स्वास्थ्य उपकेंद्र खोले मगर...

  • बहराइच: दर्जनों गाँवों में नहीं पहुंच सकती एंबुलेंस

    रोहित श्रीवास्तव, कम्यूनिटी जर्नलिस्टबहराइच। देश में बड़े-बड़े हाईवे बन रहे हैं। जिला मुख्यालयों को फोर लेन से जोड़ने की बातें हो रही हैं। लेकिन, प्रदेश में सैकड़ों गाँव ऐसे हैं जहां चार पहिया वाहन तो दूर मोटर साइकिल तक ले जाना टेढ़ी खीर है। राजनीतिक उपेक्षा से सरयू के पास गाँव विकास में काफी पीछे...

Share it
Top