ऊसर भूमि में करें लाख की खेती, कमाएं लाखों

ऊसर भूमि में करें लाख की खेती, कमाएं लाखोंयुवाओं को लाख की खेती का प्रशिक्षण देते विशेषज्ञ।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

इलाहाबाद। किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जिले में स्थित बायोवेद कृषि, प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान शोध संस्थान की मदद से ऊसर भूमि और अनुपयोगी पड़े पुराने पेड़ों के ऊपर बड़े स्तर पर लाख की खेती करवाई जा रही है। इस प्रयास के बदौलत किसान कम समय में अच्छा मुनाफा भी कमा रहे हैं।

ये भी पढ़ें : किसानों की आय बढ़ाने में मददगार बन रहा ‘फार्मर फर्स्ट’

इलाहाबाद जिला मुख्यालय से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कौड़िहार ब्लॉक के श्रींवेगपुर क्षेत्र में स्थित बायोवेद शोध संस्थान प्रदेश के कई जिलों में बड़े स्तर पर लाख की खेती कराकर किसानों की आय को बढ़ाने का काम कर रहा है। इलाहाबाद के अलावा मिर्जापुर, चित्रकूट, बुंदेलखंड के किसान लाख की खेती कर रहे हैं। प्रतिवर्ष प्रति हेक्टेयर छह लाख से नौ लाख रुपए तक की आय प्राप्त कर रहे हैं। जिले के मेजा, मांडा, कौड़िहार, कौंधियारा सहित कई ब्लॉकों में किसान लाख की खेती कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें : जानिए कौन हैं बाबूलाल दहिया, जो शिवराज के हाथों पुरस्कार न लेकर सुर्खियों में हैं

किसानों को लाख की खेती के बारे में बायोवेद कृषि प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान शोध संस्थान के निदेशक और कृषि वैज्ञानिक डॉ. बीके द्विवेदी ने बताया, ''लाख की खेती करने वाले किसान सूखे एवं आर्थिक मंदी की स्थिति में भी लाभ कमाते हैं। लाख की खेती के साथ ही अन्य फसल भी उगाई जा सकती हैं। लाख कीट पेड़ों पर उगाए जाते हैं। इसेे जंगलों के अलावा खेत के मेड़ पर लगे पौधों पर लगाया जा सकता है।''

ये भी पढ़ें : सरकारी रिपोर्ट : किसान की आमदनी 4923 , खर्चा 6230 रुपए

इन पेड़ों पर लगते हैं लाख के कीट
लाख की खेती किसानों के लिए बहुपयोगी साबित हो रही है। बायोवेद कृषि प्रद्योगिकी एवं विज्ञान शोध संस्थान के प्रबंध निदेशक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के मुताबिक लाख का कीट गाँवो में मिलने वाले कुसुम, प्लास, बेर, बबूल, जंगल जलेबी, पीपल,ग ूलर, सिरिस, पाकड़ पर उगाकर किसान एवं ग्रामीण लाभ कमा सकते हैं। लाख की खेती से न्यूनतम एक पेड़ से ढाई से तीन हज़ार रुपए प्रतिमाह की कमाई होती है।

एेेसे लगते हैं लाख कीट।

सीमित संसाधन में कर सकते हैं खेती
लाख की खेती सीमित संसाधनों के साथ भी किसान कर सकता है। कृषि वैज्ञानिक डॉ. बी के द्विवेदी के मुताबिक दो मौसमी फसल उगाने के बाद किसान की आय 800 रुपए प्रति एकड़ वार्षिक होती है, जबकि लाख की खेती से एक एकड़ में 1,000 फ्लेमेंजिया पोशक वृक्ष खेत के मेड़ के किनारे लगाकर ढ़ाई से तीन लाख रुपए प्रति एकड़ प्रति वर्ष की कमाई कर सकता है ''

“लाख की खेती किसानों के लिए बहुत लाभप्रद साबित हो रही है। इसे पारम्परिक खेती के साथ भी किया जा सकता है। लाख की खेती कम लागत में अधिक मुनाफा किसानों को देने का काम कर रही है।'' डॉ़ बीके द्विवेदी, निदेशक, बायोवेद कृषि, प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान शोध संस्थान इलाहाबाद ने बताया।

ये भी पढ़ें : चीनी मिलों में अब नहीं चल पाएगी घटतौली, साफ्टवेयर के जरिए होगी गन्ने की तौल

महिला किसानों का काम आसान कर रहे ये कृषि यंत्र

सौर ऊर्जा ड्रायर की मदद से कई महीनों तक सुरक्षित रख सकते हैं हरी सब्जियां

First Published: 2017-09-14 12:33:46.0

Share it
Share it
Share it
Top