आधुनिक तरीके से खेती शुरू कर इन महिलाओं ने पेश की मिसाल

आधुनिक तरीके से खेती शुरू कर इन महिलाओं ने पेश की मिसालमहिलाओं ने आधुनिक तरीके से सब्जियों की खेती शुरू की है।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

मऊ। जिले के कोपागंज ब्लॉक के मढ़िया व सोनाराइच क्षेत्र में महिलाओं ने आधुनिक तरीके से सब्जियों की खेती शुरू की है। महिलाओं का समूह खेतों में क्यारियां बनाकर अलग-अलग तरीकों की सब्जियों की खेती करता है और जब बाजार में सब्जियों का भाव अच्छा होता है तो उसे अच्छे दाम पर बेच दिया जाता है।

मऊ जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर कोपागंज ब्लाक के मठिया गाँव में रहने वाली मैना देवी (45 वर्ष) पिछले चार वर्षों से सब्जियों की खेती कर रही हैं। मैना बताती हैं, “ मैं आलू और प्याज जैसी सब्जियों की खेती खेत में क्यारी बनाकर करती हूं। गाँव के पास ही कोल्ड स्टोरेज है, जहां मैं सब्जियों को रखती हूं। जब मंडियों में सब्जियों का दाम कम रहता है, तब सब्जियों को स्टोर में रखवा देती हूं। अच्छा भाव मिलने पर गोदाम से निकलवा कर बेच देती हूं।”

सिर्फ मैना ही नहीं बल्कि उन्हीं की तरह क्षेत्र की 50 से अधिक महिलाएं सब्जियों की उन्नत खेती कर रही हैं। इसके साथ ही ये महिलाएं खेतों में जैविक खादों का प्रयोग और मंडी समिति के अधिकारियों के संपर्क में रहकर अलग अलग कृषि संबंधी जानकारी लिया करती हैं।

ये भी पढ़ें - इस गाँव की महिलाएं प्राकृतिक तरीके से कर रहीं गंभीर रोगों का इलाज

सोनाराइच क्षेत्र की रहने वाली मंजू (30 वर्ष) एक वर्ष पहले से महिला समाख्या दल के साथ गाँवों में महिलाओं को कुशल खेती व बीजों के चुनाव के प्रति जागरूक कर रही हैं। मंजू कहती हैं, “ महिला समाख्या की मदद से जिले के तीन ब्लॉकों में महिलाओं को सब्जियों की खेती की ट्रेनिंग दी जा रही है। इसमें उन्नत खेती के लिए महिलाओं को अच्छी क्वालिटी के बीजों के चुनाव , मार्केट में चल रहे सब्जियों के दामों की जानकारी दी जाती है।”

सब्जियों की खेती के बदौलत जहां इन महिलाओं को अपने पैरों पर खड़े होने का एक साधन मिल गया है। वहीं ये महिलाएं अपने घरों की रोजी-रोटी चलाने के लिए अब घर के पुरुषों पर निर्भर नहीं हैं।

ये भी पढ़ें- वीडियो : ग्रामीण महिलाओं के लिए ‘संजीवनी’ बनीं खुद महिलाएं

महिलाओं द्वारा की जा रही सब्जियों की खेती के बारे में जिला कार्यक्रम समन्वयक महिला समाख्या कनकप्रभा बताती हैं, “सब्जियों की खेती के तौर-तरीके इन महिलाओं ने कहीं से सीखे नहीं हैं, बल्कि खुद इसका प्रयोग कर इन्हें जानने की कोशिश की है और आज वो इसमें काफी हद तक सफल भी हो चुकी हैं। हमारे संगठन की महिलाएं ज्यादातर किसान भी हैं इसलिए अब ये गाँव गाँव जाकर सब्जियों की खेती के बारे में भी लोगों को बताती हैं।”

इन सब्जियों की होती है खेती

मऊ जनपद में अधिकतर भिंडी,परवल, आलू, प्याज़, बैंगल, टमाटर और खीरे जैसी सब्जियों की खेती बड़े स्तर पर की जाती है।

Share it
Top