Read latest updates about "सुलतानपुर" - Page 1

  • किसान की लागत घटाने की योजनाएं बहुत, राज्य लागू करें: कृषि मंत्री

    केंद्र सरकार ने खेती की लागत को कम करने के लिए शुरू की कई योजनाएं: राधा मोहन सिंहहैदराबाद (भाषा)। केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने गुरुवार को यहां कहा कि केंद्र सरकार की विभिन्न किसानोन्मुखी योजनाओं को लागू करने में गति लाने की जिम्मेदारी राज्यों की है। उन्होंने कहा, “केंद्र सरकार ने खेती की...

  • तीन महीने भी ना चल पाया महिला अस्पताल

    सुलतानपुर। गाँवों में महिलाओं को बेहतर इलाज मिल सके, इसके लिए सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में महिला अस्पताल खुलवाती है। लेकिन सुलतानपुर जिले में एक महिला अस्पताल एैसा भी है, जिसमें स्वास्थ्य विभाग द्वारा हैडओबर मिलने के तीन माह में ही ताले लटक गया है।सुलतानपुर जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर दूर...

  • उद्घाटन के तीन दिन बाद ही चीनी मिल हुई बंद, किसानों को नहीं मिल रही पर्ची

    सुलतानपुर। अवध किसान सहकारी चीनी मिल सुलतानपुर का उद्घाटन होने के मात्र तीन दिन में बन्द हो गई। गन्ना विभाग के लाख दावे के बावजूद भी गन्ना किसान को अभी तक पर्ची ही नहीं मिल पा रही हैं। किसान गन्ना को खेत से हटा कर गेहूं बोना चाह रहा है लेकिन विभागीय उदासीनता के चलते किसान परेशान हैं, उसकी सुनने...

  • अपने हालात पर आंसू बहा रहा सीएचसी

    सुलतानपुर। गरीब मजलूमो को मुफ्त में अच्छी स्वास्थ्य सेवा मुहैया हो इसके लिए सरकार की तरफ से अस्पताल बनवाए जाते हैं लेकिन यहाँ का हाल सब उल्टा हैं हम बात कर रहे है सुलतानपुर मुख्यालय से 19 किलोमीटर इलाहाबाद-फैजाबाद रोड पर स्थित कूरेभार मे बने 30 बेड के अस्पताल (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र) का जोकि एक...

  • लोगों को साक्षर बनाया तो सम्मानित किये जायेंगे अफ़सर

    सुल्तानपुर। समाजवादी पेंशन योजना का लाभ ले रहे व्यक्तियों को साक्षर बनाने पर सरकार की ओर से अधिकारियों को पुरस्कृत किया जाएगा। सूबे में अव्वल आने वाले तीन जिलों के कमिश्नर, डीएम, बीएसए, खंड शिक्षा अधिकारी व प्रेरकों को सरकार नकद धनराशि के साथ-साथ प्रशस्ति पत्र भी देगी। समाजवादी पेंशन योजना के...

  • प्रधानों की वित्तीय जांच अधर में लटकी

    सुल्तानपुर। गंभीर वित्तीय अनियमितता की शिकायतों के बाद भी प्रशासन ग्राम प्रधानों की महीनों से चल रही जांच में अभी तक कोई निर्णय नहीं ले सका है। करीब 50 ग्राम प्रधानों की जांच, महीनों से जांच अधिकारियों के पास लंबित पड़ी हैं।ग्राम पंचायतों में गंभीर किस्म की अनियमितता के मामले में प्रशासन अभी तक...

  • साक्षर बनाओ, इनाम पाओ

    सुल्तानपुर। समाजवादी पेंशन योजना का लाभ ले रहे व्यक्तियों को साक्षर बनाने पर सरकार की ओर से अधिकारियों को पुरस्कृत किया जाएगा। सूबे में अव्वल आने वाले तीन जिलों के कमिश्नर, डीएम, बीएसए, खंड शिक्षा अधिकारी व प्रेरकों को सरकार नकद धनराशि के साथ-साथ प्रशस्ति पत्र भी देगी। समाजवादी पेंशन योजना के...

  • यहां लगता है लाठियों का ख़ास मेला

    सुल्तानपुर। अधिकतर हम सभी ने कपड़े, किताब, सजावट का समान, जानवरों का मेला देखा व सुना होगा। लेकिन क्या आप ने कभी लाठियों का मेला सुना है? सुनने में लाठियों का मेला अजीब लग रहा होगा लेकिन यह सत्य है। उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर जिले में विजयदशमी के दिन कई दशकों से पांडेय बाबा बाज़ार में लाठियों का...

  • यहां नवरात्र के बाद शुरू होती है दुर्गा पूजा

    सुलतानपुर। सम्पूर्ण देश में विजयदशमी पर मूर्ति विसर्जन के साथ ही दुर्गा पूजा समाप्त हो जाती है। लेकिन अपनी अनूठी परम्पराओं व भव्यता के लिये प्रसिद्ध सुलतानपुर जिले की ऐतिहासिक दुर्गा पूजा महोत्सव दशहरे के बाद प्रारंभ होकर पूर्णिमा तक चलता है।ज़िले के प्रयागीपुर चौराहे पर बन रहे कामाख्या मन्दिर के...

  • मानकों के चक्कर में फंसे धान किसान

    सीतापुर। धान क्रय केंद्रों पर धान बेचने आए किसान मानकों के पेंच में उलझते जा रहे हैं। धान में नमी बताकर केंद्रों से किसानों को वापस भेजा जा रहा है। इसके कारण किसान बिचौलियों को अपना धान बेचने पर मजबूर हैं।मिश्रिख ब्लॉक के चंदूपुर गाँव के निवासी राम लखन (35 वर्ष) बताते है, ''मेरे खेत में धान की फसल...

  • किसानों को आलू बुवाई के लिए मिलेगा फाउंडेशन बीज

    सुलतानपुर। शासन ने जिला उद्यान विभाग को 100 क्विंटल आलू के फाउंडेशन बीज की आपूर्ति की मंजूरी दे दी है। किसानों को केवल बीज उत्पादन के लिए ही आलू दिया जाएगा। विभाग में महज 100 क्विंटल आलू की आपूर्ति होने से छोटे व मझोले किसान आलू के अच्छें बीज से वंचित रह जाएंगे।शासन के निर्देश पर इस बार उद्यान...

  • मौसम की मार के बाद अफसर कर रहे परेशान

    सुलतानपुर। जिले के किसानों पर इस बार चौतरफा मार पड़ी है। ओलावृष्टि से बर्बाद गेहूं की फसल का आज तक मुआवज़ा भी नहीं मिला है, तो कम बारिश से बर्बाद हुई धान की फसल को काटकर पशुओं को खिलाने पर मज़बूर हैं।जिला मुख्यालय से 21 किलोमीटर दूर उत्तर दिशा में कूरेभार विकास खंड के गलिबहां निवासी अनिल सिंह (50...

Share it
Top