मूंगफली की फसल के लिए आफत बनी ये बारिश

Shubham MishraShubham Mishra   14 July 2017 1:38 PM GMT

मूंगफली की फसल के लिए आफत बनी ये बारिशखेतों की देखरेख करता किसान।

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

कन्नौज। लगातार बारिश होने से मूंगफली के खेतों में जलभराव के कारण फसल को नुकसान हो रहा है। वहीं दूसरी ओर मजदूरों के न मिलने से किसान और भी परेशान हैं। जिला मुख्यालय कन्नौज से करीब 16 किमी दूर उमर्दा ब्लॉक क्षेत्र के पवोरा निवासी के अतर सिंह ( 40 वर्ष) बताते हैं, ‘‘इस बार तीन बीघा मूंगफली बोई थी, आठ-नौ दिन से बारिश हो रही है। मजदूर काम करने को तैयार नहीं हो रहे। खेत में एक-एक फिट पानी भरा है। मूंगफली की फसल बेकार हो रही है।’’

किसानों के आगे दूसरी परेशानी खेत गीला होने के कारण मूंगफली की खुदाई न हो पाना है। पवोरा के ही किसान सुधीर कुमार (28 वर्ष) बताते हैं, ‘‘दो बीघा बंटाई पर मूंगफली की थी। लेकिन बहुत नुकसान हो गया है, खेत गीला होने से मूंगफली की खुदाई नहीं हो पा रही और दोबारा जमने लगी है।”

ये भी पढ़ें- दलहनी फसलों को नुकसान पहुंचा रही है बारिश


कन्नौज मुख्यालय से करीब 70 किमी दूर सौरिख ब्लॉक क्षेत्र के सकरावा निवासी शाहिद अली (30 वर्ष) कहते हैं, ‘‘6500 का बीज खरीदा था, 2500 रुपए में मूंगफली बिक रही है, लेबर का काम खुद करना पड़ा है, फिर भी जेब से पैसा लगाना पड़ रहा है।”

जिला मुख्यालय से करीब 28 किमी दूर गुगरापुर ब्लॉक क्षेत्र के सद्दूपुर गाँव निवासी किसान ललित मिश्र (50 वर्ष) का कहना है, ‘‘मूंगफली बारिश की वजह से खेत में खुद नहीं पा रही और पूरी तरह से जम गई है। बाजार के भाव पहले ही बहुत खराब थे। अब तो बाजार और भी बेकार है, क्योंकि सूखी मूंगफली जा रहीं रही सब उगी हुई है। क्या करें ये पानी हमारे लिए बहुत हानिकारक है।’’

‘प्रिय मीडिया, किसान को ऐसे चुटकुला मत बनाइए’

ढैंचा व सनई बढ़ाते हैं मिट्टी की उर्वरकता

आपकी फसल को कीटों से बचाएंगी ये नीली, पीली पट्टियां

हर्बल घोल की गंध से खेतों के पास नहीं फटकेंगी नीलगाय, ये 10 तरीके भी आजमा सकते हैं किसान

वाह ! खेती से हर महीने कैसे कमाए जाएं लाखों रुपए, पूर्वांचल के इस किसान से सीखिए

पश्चिमी यूपी में महक फैलाएगा रजनीगंधा

वीडियो- लखनऊ में गोमती नदी के बढ़ते जलस्तर से सहमे लोग

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top